Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

पथरी का दर्द बताकर करवाया अल्ट्रासाउंड, गर्भ में लड़का बता 70 हजार लिए, दो गिरफ्तार

स्वास्थ्य विभाग ने भ्रूण लिंग जांच मामले में निजामपुर क्षेत्र से सात किलोमीटर दूर राजस्थान के गांव मेहाड़ा में छापमार कार्रवाई की। महिला को रिपोर्ट देने की बजाय सीधे तौर पर लड़का होने की बात कही और रुपये ले लिए।

पथरी का दर्द बताकर करवाया अल्ट्रासाउंड, गर्भ में लड़का बता 70 हजार लिए, दो गिरफ्तार
X

दोनों आरोपितों के साथ स्वास्थ्य व पुलिस विभाग की टीम।

हरिभूमि न्यूज : नारनौल

स्वास्थ्य विभाग ने भ्रूण लिंग जांच मामले में निजामपुर क्षेत्र से सात किलोमीटर दूर राजस्थान के गांव मेहाड़ा में रविवार छापमार कार्रवाई की है। इससे पहले स्वास्थ्य विभाग की ओर से तैयार की गई डिकॉय पेसेंट से भ्रूण लिंग के नाम पर पहले 50 हजार रुपए ऑनलाइन अकाउंट में भेजे गए और बाद में काम होने पर 20 हजार देने का सौदा तय हुआ। हैरानी की बात है कि डिकॉय पेसेंट को मेहाड़ा के अजीत हॉस्पिटल में पथरी का दर्द होने की बात कहकर अल्ट्रासाउंड करवाया। बाद में महिला को रिपोर्ट देने की बजाय सीधे तौर पर लड़का होने की बात कह दी और बाकी पैसा ले लिया। इसी दौरान इंतजार में बैठी स्वास्थ्य विभाग की टीम ने दो व्यक्तियों को मौके पर ही पकड़ लिया गया। इन्हें निजामपुर पुलिस चौकी के हवाले किया गया है।

स्वास्थ्य विभाग को कुछ दिनों से यह गुप्त सूचनाएं मिल रही थी कि हरियाणा-राजस्थान बॉर्डर पर भ्रूण लिंग जांच का खेल चल रहा है। इस पर स्वास्थ्य विभाग कई दिनों ने नजर रखे हुए था। जाल बिछाया गया और भ्रूण लिंग जांच करवाने की बात कहने वाला एक व्यक्ति मिला। उसके पास डिकॉय पेसेंट के तौर पर बातचीत की गई। यह व्यक्ति राजस्थान के गांव दुधवा वासी जालूसिंह है। इस व्यक्ति ने भ्रूण लिंग जांच के नाम पर 70 हजार की डिमांड की थी। उसमें से 50 हजार पहले ऑनलाइन अकाउंट में भेजने को कहा। डिकॉय पेसेंट ने ऐसा ही किया, उसके अकाउंट में 50 हजार रुपए भेज दिए। इसके बाद इस व्यक्ति ने डिकॉय पेसेंट को 30 जनवरी को नारनौल शहर में ही अल्ट्रासाउंड करवाकर भ्रूण लिंग की जानकारी देने की बात कही। यह तारीख शनिवार को थी, उसे फोन किया गया तो जवाब मिला कि आज बात नहीं बनेगी, कल रविवार सुबह 10 बजे निजामपुर आ जाओ।

डिकॉय पेसेंट ने रविवार को सुबह फोन किया तो व्यक्ति ने दनचौली मोड़ पर आने को कहा। वहां पहुंची तो जालूसिंह के साथ एक और व्यक्ति अजय कुमार वासी टीबा बसई था। जालूसिंह ने डिकॉय पेसेंट के साथ आए व्यक्ति को वहीं रहने की बात कही और डिकॉय पेसेंट महिला को अपने साथ बाइक पर बैठाकर ले गया। कुछ समय बाद वह वापस पहुंचा और लड़का होने की बात कहकर 20 हजार रुपए ले लिए गए। उसी वक्त पैनी नजर रख रही स्वास्थ्य विभाग की टीम ने दोनों को पकड़ लिया। इस मौके पर स्वास्थ्य विभाग की ओर से टीम में डा. अरूण कालरा, डा. हर्ष चौहान, जिला औषधि नियंत्रक हेमन्त ग्रोवर एवं संजीव कुमार शामिल थे।

पथरी का दर्द बता करवाया अल्ट्रासाउंड, कब्जे में लिया रिकार्ड

स्वास्थ्य विभाग के सूत्रों की माने तो जालूसिंह डिकॉय पेसेंट को राजस्थान के गांव मेहाड़ा के अजित हॉस्पिटल में लेकर गया। वहां अल्ट्रासाउंड करवाने के लिए होने वाले नियमों को पूरा किया। अस्पताल में महिला चिकित्सक को बताया गया कि पथरी का दर्द है, अल्ट्रासाउंड करवाना है। वहां ओपीडी की पर्ची कटी, फार्म-12 भी भरवाया गया। आधार कार्ड की फोटो प्रति भी जमा हुई। महिला चिकित्सक ने पथरी का दर्द समझ उसका अल्ट्रासाउंड किया और रिपोर्ट बनाकर व्यक्ति को थमा दी। व्यक्ति जालूसिंह ने रिपोर्ट महिला को देने की बजाय अपनी ओर से ­झूठ बोल दिया कि पेट में लड़का है। अभी प्रारंभिक जांच में सामने आया है कि महिला चिकित्सक को भी इस व्यक्ति की चाल समझ में नहीं आई।

नांगल चौधरी थाना में एफआईआर दर्ज

सीएमओ डा. अशोक कुमार ने बताया कि जालूसिंह दुधवा व अजय कुमार टीबा बसई को स्वास्थ्य विभाग की टीम ने पुलिस के सहयोग से पकड़ा है। आरोपित जालूसिंह ने भ्रूण लिंग जांच के नाम पर 70 हजार की डिमांड की थी। जिसमें से 50 हजार अकाउंट में और भ्रूण लिंग के बारे में अवगत करवाने के बाद उसे 20 हजार में दिए गएराजस्थान के गांव मेहाड़ा में जिस अजित हॉस्पिटल में डिकॉय पेसेंट का अल्ट्रासाउंड करवाया गया, अभी प्राथमिक जांच में उनका कोई रोल नहीं दिखाई दे रहा। बाकी की जांच एवं आरोपितों पर कार्रवाई के लिए नांगल चौधरी थाना में एफआईआर दर्ज करवा दी गई है।

Next Story