Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

UGC-NET पेपर लीक : CRPF से छुट्टी लेकर भूमिगत हुआ प्रश्न पत्र लीक करने का मुख्य आरोपी

यूजीसी नेट प्रश्न पत्र लीकेज गिरोह का भंडाफोड होने के बाद आरोपित सीआरपीएफ जवान पांच दिन की छुट्टी लेकर भूमिगत हो गया। एसआईटी द्वारा सीआरपीएफ हैडक्वार्टर को नोटिस दिए जाने के बाद छुट्टी का खुलासा हुआ है।

UGC-NET पेपर लीक : CRPF से छुट्टी लेकर भूमिगत हुआ प्रश्न पत्र लीक करने का मुख्य आरोपी
X

जानकारी देते एसआईटी प्रमुख डीएसपी जितेंद्र।

हरिभूमि न्यूज. जींद

यूजीसी नेट प्रश्न पत्र लीकेज गिरोह का भंडाफोड होने के बाद आरोपित सीआरपीएफ जवान पांच दिन की छुट्टी लेकर भूमिगत हो गया। एसआईटी द्वारा सीआरपीएफ हैडक्वार्टर को नोटिस दिए जाने के बाद छुट्टी का खुलासा हुआ है। सीआरपीएफ मुख्यालय के अनुसार उसकी 31 दिसम्बर को वापसी होगी। आरोपित सीआरपीएफ 33 बटालियन बुआना में चालक के पद पर डयूटीरत है। वहीं, रिमांड अवधि समाप्त होने पर गिरोह के तीन सदस्यों को अदालत में पेश किया गया। जहां से तीनों को न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया।

26 दिसम्बर को फूटा था यूजीसी नेट प्रश्न पत्र लीकेज का भंडा

उचाना थाना पुलिस ने 26 दिसम्बर को यूजीसी नेट प्रश्न पत्र लीकेज का भंडाफोड करते हुए गिरोह के नौ सदस्यों को काबू किया था। जिसमें गांव पथरावगढ निवासी रिंकू, गांव बामला निवासी पुनीत तथा गांव खटकड निवासी राहुल मुख्य आरोपित थे। अन्य छह आरोपितों को जेल भेजा जा चुका है। जबकि तीनों मुख्य आरोपित चार दिन के रिमांड पर थे। पुलिस पूछताछ में सीआरपीएफ जवान गांव होसंगाबाद दादरी निवासी विकास का नाम सामने आया था। जिसने रिंकू तथा पुनीत के पास प्रश्न पत्र को भेजा था। साथ ही कडी होसंगाबाद निवासी अमित तथा झज्जर निवासी कुलदीप का नाम भी जुडा। पुलिस टीमें लगातार विकास समेत तीनों की तलाश में दिल्ली, गुरुग्राम, दादरी तथा अन्य ठिकानों पर छापेमारी की लेकिन आरोपितों का सुराग नहीं लगा।

सीआरपीएफ में चालक के पद पर डयूटीरत है मुख्य आरोपित

मुख्य आरोपित विकास सीआरपीएफ के आरकेपुरम हैडक्वार्टर के अंतर्गत 33 वीं बटालियन में चालक के पद पर डयूटीरत है। पेपर लीकेज में नाम सामने आने के बाद आरोपित पांच दिन की छुट्टी लेकर भूमिगत हो गया। धर पकड के लिए पहुंची पुलिस टीम ने सीआरपीएफ को नोटिस जारी कर आरोपित विकास को जांच में शामिल होने के लिए कहा। सीआरपीएफ हैडक्वार्टर ने पुलिस टीम को आरोपित विकास के पांच दिन की छुट्टी पर जाने के बारे में बताया, जिसकी वापसी 31 दिसम्बर को होगी। एसआईटी प्रमुख डीएसपी जितेंद्र ने बताया कि आरोपित सीआरपीएफ में चालक के पद पर कार्यरत है। जो पांच दिन की छुट्टी लेकर भूमिगत हो गया। जिसके बारे में सीआरपीएफ मुख्यालय को अवगत करवा दिया गया है। रिमांड पर चल रहे तीन आरोपितों की अवधि समाप्त होने पर उन्हें न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया है।

और पढ़ें
Next Story