Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सीवर साफ करते समय दो कर्मियों की दम घुटने से मौत

संजय कालोनी चौकी के एएसआई एवं जांच अधिकारी सतपाल के मुताबिक संजय कालोनी में सीवर सफाई का काम एक ठेकेदार ने लिया था। कई दिन से यहां सीवर सफाई का काम चल रहा है।

सीवर साफ करते समय दो कर्मियों की दम घुटने से मौत
X

फरीदाबाद। थाना मुजेसर क्षेत्र अन्र्तगत संजय कालोनी में 33 फुट रोड पर सीवर सफाई के दौरान दम घुटने से दो मजदूरों की मौत हो गई। मृतकों की पहचान पश्चिम बंगाल निवासी इब्राहिम और सलमान के रूप में हुई है। दोनों यहां सेक्टर-9 के पास झुग्गियों में रहते थे। मृतकों की उम्र 30 से 32 साल है।

संजय कालोनी चौकी के एएसआई एवं जांच अधिकारी सतपाल के मुताबिक संजय कालोनी में सीवर सफाई का काम एक ठेकेदार ने लिया था। कई दिन से यहां सीवर सफाई का काम चल रहा है। इब्राहिम और सलमान ठेकेदार के पास मजदूरी करते थे। सोमवार सुबह दोनों 33 फुट रोड पर सीवर के मैनहोल में उतरे।

दोनों ने सुरक्षा उपकरण नहीं लगाए हुए थे। नीचे उतरते ही दोनों बेहोश होकर गिर पड़े। मैनहोल के बाहर मौजूद दूसरे कर्मचारियों ने जब देखा कि दोनों नीचे बेसुध पड़े हैं तो उन्हें मैनहोल से बाहर निकाल। उन्हें तुरंत बादशाह खान अस्पताल पहुंचाया गया। जहां डाक्टरों ने दोनों को मृत घोषित कर दिया। पुलिस ने शव पोस्टमार्टम के लिए रखवाए हैं। मृतकों के परिजनों के बारे में पुलिस को ज्यादा जानकारी नहीं मिली है। पुलिस मृतकों के परिजनों की जानकारी जुटाने में लगी है।

यह कहते है नपा के प्रदेशाध्यक्ष

नगर पालिका कर्मचारी संघ, हरियाणा के राज्य प्रधान नरेश कुमार शास्त्री, सीवरमैन यूनियन फरीदाबाद के प्रधान सुभाष फेटमार व सफाई कर्मचारी यूनियन के प्रधान बलवीर सिंह बालगुहेर ने कहा कि किसी भी कर्मचारी चाहे व सरकारी व प्राईवेट को सीवर में नहीं उतारा जा सकता। साथ ही उन्हें सीवर हॉल में सफाई का काम करते समय पूर्ण उपकरण व सुरक्षा उपकरण देने अनिवार्य है।

उल्लेखनीय है कि सरकार के तमाम कदम उठाने के बाद भी देश में हाथ से मैला उठाने और बिना सुरक्षा उपकरणों के सीवर की सफाई करने का काम अभी तक बंद नहीं हुआ है। इसी कारण केंद्र सरकार ने दो बड़े फैसलों किए थे। सामाजिक न्याय मंत्रालय मशीन से सीवर की सफाई को अनिवार्य बनाने जा रहा है।

वहीं शहरी मामलों के मंत्रालय ने सफाई मत्रि सुरक्षा चैलेंज शुरू किया है, ताकि किसी भी व्यक्ति को सीवर या सेप्टिक टैंक में प्रवेश ना करना पड़े। हालांकि, इसके बाद भी कई कर्मचारियों ने सीवर सफाई के दौरान मौत हो चुकी है।


Next Story