Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

मानवता शर्मसार : नवजात शिशु की पहचान छिपाने के लिए फेंका, कुत्तों ने बुरी तरह नोच डाला

क्षत-विक्षत होने के कारण लड़का-लड़की की भी पहचान नहीं हो पा रही। पुलिस ने शव नागरिक अस्पताल में रखवा दिया है। मांडोठी चौकी पुलिस ने धारा 318 के तहत केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

मानवता शर्मसार : नवजात शिशु की पहचान छिपाने के लिए फेंका, कुत्तों ने बुरी तरह नोच डाला
X

प्रतीकात्मक तस्वीर

हरिभूमि न्यूज. बहादुरगढ़

इलाके में मानवता और मां की ममता को शर्मसार करता एक मामला सामने आया है। जन्म के बाद ही नवजात शिशु को पहचान छिपाने के मकसद से फेंक दिया गया। शिशु को कुत्तों ने बुरी तरह से नोच डाला। केवल गर्दन ही बाकी रह गई। क्षत-विक्षत होने के कारण लड़का-लड़की की भी पहचान नहीं हो पा रही। पुलिस ने शव नागरिक अस्पताल में रखवा दिया है। मांडोठी चौकी पुलिस ने धारा 318 के तहत केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

मामला गांव रिवाड़ी खेड़ा का है। दरअसल, गांव का निवासी राम अवतार बुधवार की सुबह करीब साढ़े चार बजे टहलने के लिए अपने मकान से बाहर निकला था। जब सड़क की तरफ गया तो उसे कुत्ते किसी चीज को नोचते नजर आए। इसके बाद उसने नजदीक जाकर देखा तो हैरान हो गया। कुत्ते नवजात शिशु को नोच रहे थे। गर्दन से नीचे का तमाम हिस्सा नोचा जा चुका था। फिर उसने कुत्तों को वहां से भगाया। मानवता को शर्मसार करती यह घटना तेजी से पूरे गांव में फैल गई। इसके बाद पुलिस को जानकारी दी गई। सूचना पाकर मांडोठी चौकी से पुलिस मौके पर पहुंची और आवश्यक कार्रवाई शुरू की। मृत शिशु के संबंध में पुलिस ने आसपास काफी ग्रामीणों से पूछताछ की। जब कोई ठोस जानकारी नहीं मिली तो पुलिस शव को बहादुरगढ़ ले गई और नागरिक अस्पताल के शवगृह में 72 घंटे के लिए रखवा दिया। देखने से यह प्रतीत हो रहा है कि बच्चे को डिलीवरी के तुरंत बादं फेंका गया है।

आशंका जताई जा रही है कि किसी ने पहचान छिपाने के मकसद से शिशु को कहीं फेंक दिया और कुत्ते उसे उठा लाए। शिशु को जीवित अवस्था मंे फेंका गया है या मृत अवस्था में, यह अभी स्पष्ट नहीं है। बुरी तरह से नोचे जाने के कारण यह भी स्पष्ट नहीं हो पा रहा है कि शव लड़के का है या फिर लड़की का है। जिस किसी को इस घटना के बारे में पता लगा रहा है, वह शिशु की इस हालत के जिम्मेदारों को कोस रहा है। उधर, मांडोठी चौकी से मामले के जांच अधिकारी जितेंद्र कुमार ने कहा कि शिशु मृत या जीवित अवस्था में खेतों मंे छोड़ा गया, ये पोस्टमार्टम रिपोर्ट से ही पता चल पाएगा। फिलहाल धारा-318 के तहत केस दर्ज किया गया है। रिवाड़ी खेड़ा व आसपास लगते इलाकों में पूछताछ चल रही है। अस्पतालों का रिकार्ड खंगालकर भी यह पता लगाया जाएगा कि हाल-फिलहाल में कहां-कहां डिलीवरी हुई। आंगनबाड़ी केंद्रों से भी रिकार्ड लिया जाएगा। जल्द से जल्द मामला सुलझाने का प्रयास रहेगा।

Next Story