Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

इंटरनेट पर डालते थे विज्ञापन : रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी करते तीन गिरफ्तार

जिला ड्रग कंट्रोल अधिकारी अमनदीप चौहान ने बताया कि रेमडेसिविर इंजेक्शन चार हजार में मिलता है और सरकार के आदेशों के मुताबिक यह अस्पतालों में ही सप्लाई किया जाता है। उन्हें जानकारी मिली थी कि इंटरनेट मीडिया में एक फोन नंबर है। उस नंबर से कुछ लोग रेमडेसिविर इंजेक्शन देने की बात कर रहे हैं।

इंटरनेट पर डालते थे विज्ञापन : रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी करते तीन गिरफ्तार
X

रेमडेसिविर की कालाबाजारी करते के आरोपित।

गुरुग्राम। साइबर सिटी गुरुग्राम में रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी करने पर तीन लोगों को गिरफ्तार किया है। आरोपित इंटरनेट पर एड डाल कर यह इंजेक्शन 25 हजार में बेचने की आफर देते थे। जिला ड्रग कंट्रोल अधिकारी अमनदीप चौहान ने इंजेक्शन की कालाबाजारी करने वाले तीन लोगों को पकड़ा और पुलिस के हवाले कर दिया।

अमनदीप चौहान ने बताया कि रेमडेसिविर इंजेक्शन चार हजार में मिलता है और सरकार के आदेशों के मुताबिक यह अस्पतालों में ही सप्लाई किया जाता है। उन्हें जानकारी मिली थी कि इंटरनेट मीडिया में एक फोन नंबर है। उस नंबर से कुछ लोग रेमडेसिविर इंजेक्शन देने की बात कर रहे हैं। जब उस नंबर पर फोन किया गया तो उन्हें 25 हजार रुपये में रेमडेसिविर इंजेक्शन देने को कहा। जिसके बाद टीम का गठन कर जाल बिछाया गया और आरोपित से इंजेक्शन देने की बात कही गई। जिस पर उन्हें 25 हजार रुपये में इंजेक्शन देने के लिए शनिवार को आरडीसिटी के गेट पर बुलाया गया। वहां पर जितेंद्र नाम का व्यक्ति उन्हें इंजेक्शन देने पहुंचा।

जिसे वहीं पर पकड़ लिया। पूछताछ में जितेंद्र ने बताया कि उसे राजकुमार नाम का व्यक्ति इंजेक्शन देता है। इसके बाद फोन कर राजकुमार को वहां पर बुलाया गया। राजकुमार के साथ कमल किशोर भी वहां पहुंचा तो दोनों को दबौच लिया गया। राजकुमार ने बताया कि उन्हें कमल किशोर इंजेक्शन उपलब्ध कराता है। जबकि कमल किशोर ने अभी यह नहीं बताया कि वह इंजेक्शन कहां से लाता है। अब पुलिस इसकी जांच करेंगी। तीनों के खिलाफ सेक्टर 40 थाने में शिकायत दी गई। इसके आधार पर मामला दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया।

Next Story