Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

हरियाणा में ऐसे मनाई गई बकरीद

मस्जिदों में इमाम समेत पांच लोगों ने ही नमाज पढ़ी। बाकी लोगों ने घरों पर ही रहकर ईद की नमाज अदा कर अमन चैन की की दुआ मांगी। वहीं मुस्लिम बाहुल्य फरीदाबाद, गुरुग्राम और नूंह जिले में मस्जिदों में नमाज पर प्रतिबंध रहा।

हरियाणा में ऐसे मनाई गई बकरीद
X
यमुनानगर में सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखते हुए ईदगाह में नमाज अता करके बाहर आते मुस्लिम समुदाय के लोग।

हरियाणा में शनिवार को मुस्लिम समुदाय के लोगों ने महामारी कोरोना वायरस की वजह से इस बार ईद उल अजहा (बकरीद) का त्योहार बड़ी ही एहतियात से मनाया। मस्जिदों में इमाम समेत पांच लोगों ने ही नमाज पढ़ी। बाकी लोगों ने घरों पर ही रहकर ईद की नमाज अदा कर अमन चैन की की दुआ मांगी। मस्जिदों के इमामों ने कोरोना संक्रमण के चलते पहले ही लोगों को घरों में ही नमाज अता करने की अपील की थी। वहीं मुस्लिम बाहुल्य फरीदाबाद, गुरुग्राम, और नूंह जिले में मस्जिदों में नमाज पर प्रतिबंध रहा।

ग्रामीण आंचलों की मस्जिदों में एक्का दुक्का स्थानों पर जरूर नमाज अता की गई जिसमे सोशल डिस्टेंस का ध्यान रखा गया। घरों में नमाज अता करने के बाद मुस्लिम समाज के लोगों ने एक दूसरे को ईद की बधाई दी। ईद उल अजहा (बकरीद) पर्व को देखते हुए प्रदेश भर की मस्जिदों व ईदगाह पर लगातार नजर रखी जा रही थी। कोरोना संक्रमण वायरस के चलते सभी धार्मिक, भीड़ भाड़ वाले प्रतिष्ठानों पर पहले ही रोक लगाई हुई है। जिसके मध्यनजर लोगों ने घरों में रहकर ही बकरीद मनाई। हालांकि ईद उल अजहा (बकरीद) पर सदका, फितरा, जकात जमा कराई, वहीं गरीबों को दान दिया। जींद के इमाम दीन मोहम्मद ने मुस्लिम समुदाय ने बताया कि लोगों को घरों में रहकर नमाज अता की है। भाइचारे को मजबूत करने व विश्व शांति, कौमी एकता की दुआ अल्लाताला से मांगी। इमाम दीन मोहम्मद ने कहा कि ईद का त्योहार हमें भाईचारे का संदेश देता है, जिससे मिल जुल कर रहने की प्रेरणा मिलती है। ईद के त्योहार पर मुस्लिम समुदाय के लोगों द्वारा विश्व में अमन चैन की दुआ मांगी गई।

Next Story
Top