Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

खुले में शौच मुक्त अभियान : देश के 20 शहरों में हरियाणा के इस जिले ने बनाया स्थान

लोगों को जागरूक करने के लिए गांवों में प्रभात फेरियां निकाली गई। खुले में शौच जाने वालों को रोकने के लिए सुबह गांवों में ठीकरी पहरा भी दिया गया।

खुले में शौच मुक्त अभियान : देश के 20 शहरों में हरियाणा के इस जिले ने बनाया स्थान
X

उपायुक्त जयबीर सिंह आर्य।

हरिभूमि न्यूज.भिवानी

स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण के तहत निरंतर छह साल तक किए गए प्रयासों का ही परिणाम है कि जिला भिवानी खुले में शौच मुक्त करने के अभियान में देश के प्रथम पायदान के 20 जिलों में शामिल हुआ है। केंद्रीय जल शक्ति मंत्रलाय ने जिला प्रशासन के पास सम्मान.पुरस्कार भेजा है।

उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आह्वान पर स्वच्छ भारत मिशन अभियान के तहत देशभर में गांवों में स्वच्छता के लिए प्रयास किए गए। जिला भिवानी में भी दो अक्टूबर 2014 से ही खुले में शौच मुक्त के अभियान पर कार्य शुरु किया गया। ग्राम पंचायतों, जन.प्रतिनिधियों के साथ साथ आमजन व विद्यार्थियों द्वारा जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किए गए। गांवों में प्रभात फेरियां निकाली गई, जिसमें बच्चे,बड़े, जवान और बड़ी संख्या में महिलाएं शामिल हुई। खुले में शौच जाने वालों को रोकने के लिए सुबह.सुबह गांवों में ठीकरी पहरा दिया गया। ग्राम सभाओं में लोगों को जागरूक किया गया। स्कूलों में कार्यक्रम के दौरान बेटी द्वारा अपने पिता को पत्र भी लिखा गया, जिसमें बेटी ने दान.दहेज की बजाय घर में शौचालय होने की मांग रखी, जो कि खूब सराहा गया। परिणाम स्वरूप जिला भिवानी ने देश के 718 जिलों में अव्वल 20 जिलों में स्थान मिला है। केंद्रीय जल शक्ति मंत्रालय ने स्वच्छ भारत पुरस्कार.2020 उपायुक्त के पास भेजा है, जिसे उपायुक्त ने प्राप्त किया है। पुरस्कार मिलने पर उपायुक्त ने डीआरडीए एवं जिला परिषद के सीईओ प्रदीप कौशिक तथा स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण के जिला कार्यक्त्रम प्रबंधक सतीश कुमार व स्वच्छता अभियान में जुटी पूरी टीम को बधाई दी है।

एक अप्रैल 2020 से शुरु हो चुका है ओडीएफ प्लस अभियान

उपायुक्त आर्य ने बताया कि एक अप्रैल 2020 से स्वच्छ भारत मिशन का दूसरा चरण ओडीएफ प्लस शुरु हो चुका है। इसके तहत प्रत्येक ग्राम पंचायत में ठोस एवं तरल कचरा प्रबंधन की व्यवस्था की जानी है। इसके लिए जिला में 55 ग्राम पंचायतों में डोर टू डोर कचरे का उठान शुरु हो चुका है। 45 ग्राम पंचायतों के लिए वर्क ऑर्डर जारी हो चुके हैं। इसके अलावा 13 ग्राम पंचायतों के टेंडर हो चुके हैं। उपायुक्त ने बताया कि प्रथम चरण में जिला के 304 ग्राम पंचायतों में से 113 गांव शामिल किए गए हैंए आने वाले समय में शेष को भी शामिल कर लिया जाएगा। उन्होंने बताया कि डोर.टू डोर कचरा उठान में प्रथम चरण सबसे अधिक गांव शामिल करने वाला भिवानी प्रदेश का पहला जिला है।

100 गांवों में निर्माणाधीन हैं बॉयोगैस प्लांट

उपायुक्त आर्य ने बताया कि स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण के तहत कचरा प्रबंधन के लिए जिला में 10 गांवों में सोलिड वेस्ट मैनेजमेंट के प्लांट बनाए जा चुके हैं। इस वर्ष 192 गांवों को शामिल किया गया हैए जिसमें से 100 गांवों में निर्माणाधीन हैं।

ढ़ाणी माहू में बन रहा जिले का मॉडल बॉयोगैस प्लांट

उपायुक्त ने बताया कि गांव ढ़ाणी माहू में बॉयोगैस प्लांट का कार्य प्रगति पर है, जो कि 31 मार्च तक बनकर तैयार हो जाएगा। इससे यहां न केवल गौशाला बल्कि गांव के सामुदायिक भवन व नजदीक के परिवार को लाभ मिलेगा। यह जिला का मॉडल बॉयोगैस प्लांट प्रोजेक्ट है। उन्होंने बताया कि जिला के चार गांवों में गोबर्धन योजना के तहत बॉयोगैस प्लांट बनाए गए हैं, जिनसे गोबर गैस का उत्पादन किया जा रहा है। इन गांवों में खरक कलां, बिधवान, मंढोली कलां व सुई शामिल हैं।


Next Story