Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

राष्ट्रीय स्तर पर पहुंच चुका है पुरानी पेंशन का मुद्दा

पेंशन बहाली संघर्ष समिति हरियाणा के प्रदेश मीडिया प्रभारी शिवकुमार शास्त्री ने कहा घर्ष समिति के आह्वान पर किसान नेता राकेश टिकैत भी हर मंच और न्यूज़ चैनल्स पर इस मुद्दे को उठाते दिख रहे हैं।

राष्ट्रीय स्तर पर पहुंच चुका है पुरानी पेंशन का मुद्दा
X

शिवकुमार शास्त्री

पेंशन बहाली संघर्ष समिति हरियाणा के प्रदेश मीडिया प्रभारी शिवकुमार शास्त्री ने कहा कि पुरानी पेंशन का मुद्दा आज राष्ट्रीय स्तर पर पहुँच चुका है। क्योंकि इस काले कानून से समूचे देश केकर्मचारी प्रताड़ित हैं। राष्ट्रीय स्तर पर जहाँ एनएमओपीएस अध्यक्ष विजय बंधु तो प्रदेश स्तर पर पीबीएसएस अध्यक्ष विजेंद्र धारीवाल के नेतृत्व में पेंशन की लड़ाई लड़ी जा रही है जिसके परिणामस्वरूप आज तमाम कर्मचारी संगठनों के मांगपत्रों में यह मुद्दा मिलने लग गया है। संघर्ष समिति के आह्वान पर किसान नेता राकेश टिकैत भी हर मंच और न्यूज़ चैनल्स पर इस मुद्दे को उठाते दिख रहे हैं। जहाँ उनका तर्क है कि कर्मचारी और जवान उन्हीं के बच्चे हैं जो इस कानून से प्रताडि़त हैं।

गौरतलब है एनपीएस का पैसा शेयर बाजार डाउन होने पर जिस अनुपात से घटता है शेयर बाजार बढने पर चौथे हिस्से का भी नहीं बढता जबकि इसके समानांतर ही अन्य स्कीम के तहत शेयर बाजार में पैसा लगाया जाता है तो दो तीन गुना ज्यादा बढोतरी होती है। एनपीएस में ईमानदारी से शेयर बाजार के अनुसार भी बढोतरी नहीं होती। जबकि नेताओं को इस नयी पेंशन व्यवस्था से बाहर रखा गया है क्योंकि उनके हाथ में सत्ता होती है ऐसा कर्मचारियों का आरोप है। कर्मचारी जानना चाहते हैं थोड़े से समय में ये नेता ऐसी कौन सी सेवा कर देते हैं जिसकी एवज में इनको ताउम्र पेंशन मिलती है। हम सरकार से मांग करते हैं कि सरकार अपने कर्मचारियों को आंदोलनरत होने के लिए मजबूर न किया जाए और यथाशीघ्र पुरानी पेंशन लागू करे।

Next Story