Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

दिल्ली समेत हरियाणा के इन शहरों की हवा हुई जहरीली, सांस लेना भी मुश्किल

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने शनिवार शाम को कुल 126 शहरों के वायु गुणवत्ता इंडेक्स (एक्यूआई) के विस्तृत आंकड़ें जारी किए हैं। इसके हिसाब से भारत के 76 शहर प्रदूषित हवा की चपेट में हैं।

Delhi Pollution: दिल्ली में प्रदूषण से हवा और हुई जहरीली, वजीरपुर की वायु गुणवत्ता बहुत खराब
X

प्रदूषण से हवा और हुई जहरीली

केंद्र और राज्य स्तर पर जारी सरकारी प्रयासों के बावजूद देश में वायु प्रदूषण को लेकर हालात चिंताजनक ही बने हुए हैं। जहरीली प्रदूषित हवा की वजह से जहां लोगों का सांस लेना मुश्किल हो रहा है। वहीं इससे कई स्वास्थ्य संबंधी परेशानियां भी बढ़ रही हैं। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) ने शनिवार शाम को कुल 126 शहरों के वायु गुणवत्ता इंडेक्स (एक्यूआई) के विस्तृत आंकड़ें जारी किए हैं। इसके हिसाब से भारत के 76 शहर प्रदूषित हवा की चपेट में हैं, जिसमें राजधानी दिल्ली और हरियाणा के कई शहर भी भी शामिल है। बोर्ड ने दिल्ली की हवा को खराब श्रेणी में शामिल करते हुए इसका एक्यूआई 250 दर्ज किए जाने की जानकारी दी है। इसके अलावा सीपीसीबी के डेटा के हिसाब से 126 शहरों में से बेहद खराब की श्रेणी में 3, खराब में 25 और मॉडरेट में सवार्धिक 48 शहर शामिल हुए हैं। सभी जगहों पर वायु प्रदूषण बढ़ाने वाले कारकों में सबसे ज्यादा पीएम 2.5 और पीएम 10 की भागीदारी रिकॉर्ड की गई है।

बेहद खराब में 3, खराब में 25 शहर

सीपीसीबी डेटा में बेहद खराब की श्रेणी में उत्तर प्रदेश का बुलंदशहर, गाजियाबाद और ग्रेटर नोएडा शामिल है। यहां एक्यूआई क्रमश: 311, 336 और 324 पर बना हुआ है। इसके अलावा खराब की श्रेणी में बल्लभगढ़, भिवाड़ी, चड़ीगढ़, चरखी दादरी, हिसार, फरीदाबाद, गुरुग्राम, नारनौल, दिल्ली, बागपत, दुर्गापुर, गोवाहाटी, ग्वालियर, हावड़ा, जोधपुर, कानपुर, लखनऊ, कोलकात्ता, मंडीखेड़ा, मेरठ, मुरादाबाद, मुज्जफरनगर, नोएडा, सिंगरौली, सिलीगुड़ी शामिल हैं। इसमें ग्वालियर में एक्यूआई 241 और सिंगरौली में 244 पर बना हुआ है।

मॉडरेट श्रेणी में शामिल हुए 48 शहर

मॉडरेट श्रेणी में सबसे ज्यादा 48 शहर शामिल हुए हैं। जिसमें अंबाला, भोपाल, जबलपुर, उज्जैन जैसे शहर मुख्य हैं। इन शहरों में एक्यूआई क्रमश: 105, 116, 151 और 107 पर बना हुआ है। पीएम 2.5, पीएम 10 और सीओ जैसे कारकों की वजह से इन शहरों में वायु प्रदूषण के स्तर पर गंभीर इजाफा नजर आ रहा है।

Next Story