Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

कोरोना वैक्सीन को लेकर फैलाई जा रही अफवाह को लेकर प्रशासन सख्त, होगी कार्रवाई

कोरोना वैक्सीन को लेकर फैलाई जा रही अफवाह को लेकर प्रशासन सख्त, होगी कार्रवाई
X

प्रतीकात्मक तस्वीर। 

रोहतक : कोविड-19 की वैक्सीन को लेकर फैलाई जा रही अफवाह पर प्रशासन सख्त हो गया है। साइड इफेक्ट की अफवाह के कारण कर्मचारी टीका लगवाने से कतरा रहे हैं। इसे लेकर उपायुक्त कैप्टन मनोज कुमार ने कहा कि वैक्सीन के खिलाफ अफवाहें फैलाने वालों के खिलाफ दंडात्मक कार्रवाई की जाएगी। कोविड-19 की दोनों वैक्सीन को राष्ट्रीय नियामक प्राधिकरण द्वारा सुरक्षित पाया गया है। मीडिया में कोविड-19 की वैक्सीन की सुरक्षा और प्रभाव के बारे में अफवाहें फैलाई जा रही हैं। कैप्टन मनोज कुमार ने बताया कि कोविड-19 पर नियंत्रण के लिए सीरम संस्थान द्वारा कोविशिल्ड और भारत बायोटेक लिमिटिड द्वारा कोवैक्सीन विकसित की गई है।

पीजीआई में अब तक 556 कर्मचारियों को वैक्सीन लग चुकी है। शनिवार को भी 39 कर्मचारियों ने टीका लगवाया। इसी के साथ वैक्सीन लगाने का काम 27 प्रतिशत पूरा हो गया है। बता दें कि वैक्सीन लगाने का काम चल रहा है। शुरुआती दौर में अफवाह फैलाई गई कि वैैक्सीन के साइड इफेक्ट हैं, इसलिए संस्थान को टारगेट पूरा करने में परेशानी हुई।

छुट्टी रद होने से डॉक्टरों में गुस्सा, वीसी से मिलेंगे

वैक्सीनेशन और कोरोना को लेकर अचानक पीजीआई के डॉक्टर्स की छुट्टियां भी रद कर दी गई हैं। जिन डॉक्टर्स की छुट्टी रद की गई वे ड्यूटी पर भी आए, लेकिन उनमें गुस्सा है। कारण ये है कि 15 से 25 जनवरी तक कुल 300 फैकल्टी सदस्यों में से 150 डॉक्टर 10 दिनों की छुट्टी पूरी कर चुके हैं। 150 डॉक्टर्स का दूसरा बैच 27 से छुट्टी पर था, लेकिन अगले ही दिन उनकी छुट्टी रद कर दी गई। हरियाणा स्टेट मेडिकल टीचर एसोसिएशन के पदाधिकारियों ने बताया कि जल्द ही बैठक बुलाकर कुलपति से मिला जाएगा। राष्ट्रीय विशेषज्ञ समूह के फैसले अनुसार फ्रंट लाइन वर्कर्स का टीकाकरण किया जा रहा है।

Next Story