Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

गर्मी का प्रहार : अप्रैल में ही मई जैसा अहसास, देंखें कितना पहुंचा पारा

अप्रैल माह की शुरूआत से ही तापमान निरंतर बढ़ रहा है। दिन में तेज धूप के कारण बीमारियां पैर पसारने लगी हैं। वायरल फीवर ने पैर पसारने शुरू कर दिए और त्वचा रोग के मरीजों की संख्या भी बढ़ रही है।

गर्मी का प्रहार : अप्रैल में ही मई जैसा अहसास, देंखें कितना पहुंचा पारा
X

गर्मी से बचने के लिए छतरी व दुपट्टे का इस्तेमाल करती लड़कियां।

हरिभूमि न्यूज. बहादुरगढ़

मई अभी दूर है, लेकिन जिंदगी तेज धूप से झुलसने लगी है। सूरज का तेज बढ़ता जा रहा है, तो फिजां गर्म हो रही है। धूप में निकलने से अभी से लोग कतराने लगे हैं। वीरवार को अधिकतम तापमान 40 डिग्री और न्यूनतम तापमान 22 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। अप्रैल के तीसरे सप्ताह की शुरूआत में ही लोगों को मई और जून जैसी गर्मी का अहसास होने लगा है, जो बता रहा है इस बार गर्मी सताएगी।

बता दें कि होली के बाद केवल पंखा चला गुजर कर रहे लोग अब कूलर और एसी का सहारा लेने लगे हैं। हाईवे हो या गली मुहल्ले सभी जगह दोपहर के समय लोगों की आवाजाही कम हो गई है। अप्रैल माह की शुरूआत से ही तापमान निरंतर बढ़ रहा है। दिन में तेज धूप के कारण बीमारियां पैर पसारने लगी हैं। वायरल फीवर ने पैर पसारने शुरू कर दिए और त्वचा रोग के मरीजों की संख्या भी बढ़ रही है। अस्पताल में भी मरीजों की लाइन बढ़ गई है।

चर्मरोग विशेषज्ञ डा. रविकांता ने बताया कि इस मौसम में विशेष सावधानियां बरतने की जरूरत है। तेज धूप से त्वचा को बचाए रखना चाहिए। रात के समय खुले में न सोएं। अधिक ठंडा पानी न पीयें। त्वचा को सुरक्षित रखने और गर्मी से बचने के लिए हल्के कपड़े पहनें। वरिष्ठ चिकित्सक डा. बिजेंद्र सिंह कहते हैं गर्म मौसम में खान पान का विशेष ध्यान रखना चाहिए। वहीं सुबह एवं रात में कम कपड़े पहनना भी हानिकारक हो सकता है। दोपहर में धूप में निकलने से पहले ज्यादा से ज्यादा पानी का सेवन करके निकले, ताकि शरीर में पानी की कमी नहीं हो सके।




Next Story