Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सात साल पहले स्कूटी पलटने से हुई थी बेटे की मौत, तब से सड़काें के गड्ढे भर रहे मनोज वाधवा

10 फरवरी 2014 को सेक्टर मनोज पत्नी और तीन साल के बेटे के साथ स्कूटी पर राष्ट्रीय राजमार्ग से गुजर रहे थे। एक गड्ढे में इनकी स्कूटी पलट गई। बेटे पवित्र की हादसे में मौत हो गई थी।

सात साल पहले स्कूटी पलटने से हुई थी बेटे की मौत, तब से सड़काें के गड्ढे भर रहे मनोज वाधवा
X

पुत्र की मौत के बाद पिछले सात सालों से राष्ट्रीय राजमार्ग पर गड्ड़ों को भरते मनोज वधवा व उनके साथीगण।

फरीदाबाद। सात साल पहले 10 फरवरी 2014 को बाटा मोड़ पर जिस गड्ढे की वजह से तीन वर्षीय पवित्र की जान गई थी, आज वहां फिर गड्ढे को देख उनके पिता मनोज वाधवा काफी आहत हुए। मनोज ने बताया कि सात साल बीतने के बाद भी हालात जस के तस रहे। शासन-प्रशासन ऐसे जानलेवा गड्ढों को भरने में जरा भी गंभीरता नहीं दिखा रहा। मौके पर जमा हुए सभी लोगों ने सडक़ों पर बने गड्ढों के प्रति रोष जताया। यहां गड्ढे को कंकरीट मिक्सर से भरा गया। बता दें 10 फरवरी 2014 को सेक्टर.16 निवासी मनोज वाधवा पत्नी टीना और तीन साल के बेटे पवित्र के साथ स्कूटी पर राष्ट्रीय राजमार्ग बाटा मोड़ से गुजर रहे थे। पानी से लबालब एक गड्ढे में इनकी स्कूटी पलट गई। बेटे पवित्र की हादसे में मौत हो गई जबकि पत्नी टीना गंभीर रूप से घायल हो गई थी। तभी से मनोज वाधवा इस हादसे के लापरवाह अधिकारियों को सजा दिलाने के लिए न्यायालय में केस लड़ रहे हैं।

प्रशासन को दिखाते हैं आइना

मनोज वाधवा ने बताया कि उन्हें पूरा भरोसा है कि न्याय जल्द मिलेगा। वह चाहते हैं कि अब किसी और की जान ऐसे गड्ढों से न जाए। इसी जागरूकता के लिए वह अक्सर प्रशासन को आइना दिखाने के लिए गड्ढे भरते रहते हैं।






Next Story