Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

संयुक्त किसान मोर्चा का ऐलान : 12 को मनाएंगे शहीदी दिवस, 18 को रेल रोको अभियान और 26 को लखनऊ में किसान महापंचायत

संयुक्त किसान मोर्चा ( Skm ) ने लखीमपुर खीरी मामले में सरकार द्वारा संतोषजनक कार्यवाही न किए जाने पर दशहरे के अवसर पर प्रधानमंत्री और गृह मंत्री के पुतले फूंकने का भी ऐलान किया है।

संयुक्त किसान मोर्चा का ऐलान : 12 को मनाएंगे शहीदी दिवस, 18 को रेल रोको अभियान और 26 को लखनऊ में किसान महापंचायत
X

किसान आंदोलन

हरिभूमि न्यूज. सोनीपत

लगभग 11 माह से देश की राजधानी के बॉर्डर पर धरनारत किसान आंदोलन का संचालन करने वाले संयुक्त किसान मोर्चा ( Skm ) ने दशहरे के अवसर पर प्रधानमंत्री और गृह मंत्री के पुतले फूंकने का ऐलान किया है। एसकेएम ने लखीमपुर खीरी मामले में सरकार द्वारा संतोषजनक कार्यवाही न किए जाने पर यह फैसला लिया है। एसकेएम के अनुसार विरोध में एक राष्ट्रव्यापी आंदोलन चलाया जाएगा। इसी के तहत 12 अक्टूबर को शहीद किसान दिवस मनाया जाएगा।

दशहरे के अवसर पर 15 अक्टूबर को नरेंद्र मोदी, अमित शाह और स्थानीय नेताओं के पुतले जलाए जाएंगे। इसी क्रम में 18 अक्टूबर को देश भर में सुबह 10 बजे से 4 बजे तक रेल रोको आंदोलन किया जाएगा और 26 अक्टूबर को संयुक्त किसान मोर्चा लखनऊ में लखीमपुर कांड के विरोध में किसान महापंचायत करेगा। एसकेएम के अनुसार न्याय के लिए आंदोलन को अंत तक लेकर जाएंगे। कुंडली बॉर्डर से संयुक्त किसान मोर्चा ने शनिवार को प्रेस क्लब ऑफ इंडिया, नई दिल्ली पहुंचकर लखीमपुर खीरी मामले में प्रेस वार्ता की। इसी दौरान सरकार के खिलाफ राष्ट्रव्यापी आंदोलन छेडऩे के कार्यक्रमों की रूपरेखा का ब्योरा सांझा किया।

एसकेएम नेता डॉ. दर्शनपाल ने कहा कि लखीमपुर खीरी हत्याकांड भारत के किसान आंदोलन के इतिहास में एक दर्दनाक अध्याय की तरह याद किया जाएगा। अब तक सार्वजनिक हुए तमाम वीडियो के माध्यम से इस घटना का पूरा सच देश के सामने आ चुका है। यह स्पष्ट है कि यह घटना अचानक नहीं हुई। अपराधी छवि का खुद बखान करने वाले केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी ने पहले एक समुदाय विशेष के किसानों को धमकी दी। फिर विरोध में प्रदर्शन कर रहे किसानों को उकसाने की कोशिश की और बाद में उनके बेटे और उसके गुंडे गुर्गों ने प्रदर्शन से वापस जा रहे किसानों को पीछे से गाड़ी चलाकर रौंद दिया जिसमें 4 किसानों और एक पत्रकार की मौत हुई।

केंद्रीय मंत्री को बर्खास्त कर गिरफ्तार करें

एसकेएम की मांग है कि केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी को सरकार से बर्खास्त कर द्वेष, हत्या और आपराधिक षडयंत्र फैलाने के आरोप में गिरफ्तार किया जाए। साथ ही उनके बेटे आशीष मिश्रा और उनके सहयोगियों सुमित जायसवाल व अंकित दास को तुरंत गिरफ्तार किया जाना चाहिए। भाकियू नेता राकेश टिकैत ने कहा कि इस घटना ने केंद्र और उत्तर प्रदेश सरकार के अलावा दोनों सरकारों में राज कर रही भारतीय जनता पार्टी के चरित्र को पूरी तरह से बेनकाब कर दिया है। इतने बड़े हत्याकांड और उसमें भाजपा नेताओं के संलिप्त होने के स्पष्ट प्रमाण होने के बावजूद भी भाजपा अपने नेताओं और गुंडों के खिलाफ कोई कदम उठाने के लिए तैयार नहीं है। यह स्पष्ट है कि इस ऐतिहासिक किसान आंदोलन के सामने अपने पांव उखड़ते देखकर भाजपा अब हिंसा पर उतारु हो गई है। उन्होंने कहा कि इस हत्याकांड और सरकार द्वारा संतोषजनक कार्यवाही न किए जाने के विरोध में एक राष्ट्रव्यापी आंदोलन चलाया जाएगा।

12 को शहीद किसानों की कलश यात्रा निकालेंगे

एसकेएम नेता डॉ. दर्शनपाल ने कहा कि अगर 11 अक्टूबर तक उनकी मांगों को स्वीकार नहीं किया गया तो सिलसिलेवार देशव्यापी विरोध कार्यक्रम की शुरुआत करेगा। 12 अक्टूबर को तिकोनिया में शहीदों के अंतिम अरदास के बाद लखीमपुर खीरी से शहीद किसानों के अस्थि कलश लेकर शहीद किसान यात्रा निकाली जाएगी। यह यात्रा उत्तर प्रदेश के प्रत्येक जिले और देश के प्रत्येक राज्य के लिए अलग-अलग अस्थि कलश लेकर शुरू की जाएगी। इस यात्रा का समापन हर जिले और राज्य में किसी पवत्रि या ऐतिहासिक स्थान पर किया जाएगा।

Next Story