Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

हिसार के पूर्व विधायक रेलूराम पुनिया समेत आठ लोगों का हत्यारा संजीव परोली गिरफ्तार, जानें कहां छिपा बैठा था

दोषी संजीव व उसकी पत्नी सोनिया कुरुक्षेत्र जेल में बंद थे। उन्हें 31 मई 2004 को हिसार के जिला सत्र न्यायाधीश की अदालत ने फांसी की सजा सुनाई थी। 2018 में वह पेरोल पर गया था और वापस नहीं पहुंचा।

हिसार के पूर्व विधायक रेलूराम पुनिया समेत आठ लोगों का हत्यारा संजीव परोली गिरफ्तार, जानें कहां छिपा बैठा था
X

पूर्व विधायक रेलूराम व उसके परिवार के आठ सदस्यों के हत्याकांड का आरोपित संजीव पुलिस की एसटीएफ टीम की हिरासत में बैठा हुआ।

हरिभूमि न्यूज. यमुनानगर

हिसार के पूर्व विधायक रेलूराम पुनिया समेत उनके परिवार के आठ लोगों की हत्या करने के मामले में फर्जी दस्तावेज के आधार पर पेरोल लेकर फरार हुए आरोपित दामाद संजीव परोली को एसटीएफ की टीम ने मेरठ से गिरफ्तार कर लिया। आरोपित ने वर्ष 2018 में फर्जी दस्तावेजों के आधार पर 28 दिन की पेरोल लेकर फरार हो गया था। वह तब से मेरठ में रह रहा था। मामले की जांच कर रहे एसटीएफ के इंस्पेक्टर निर्मल सिंह ने बताया कि वर्ष 2018 में आरोपित संजीव ने फर्जी दस्तावेजों के आधार पर बिलासपुर के गांव चंगनौली का पता बताकर 28 दिन की पेरोल ली थी। मगर इसके बाद आरोपित पेरोल समाप्त होने पर जेल में पेश नहीं हुआ।

जिसके बाद जून 2018 में कुरुक्षेत्र जेल के उपाधीक्षक की शिकायत पर बिलासपुर पुलिस ने मामला दर्ज कर उसकी तलाश शुरू की थी। इस दौरान पेरोल लेने में संजीव की मदद करने वाले पांच अन्य लोगों के खिलाफ भी मामला दर्ज कर किया गया था। बाद में मामले को जांच के लिए एसटीएम की टीम को सौंप दिया गया था। उसी दिन से एसटीएम की टीम मामले की जांच कर रही थी। एसटीएफ की टीम को सूचना मिली थी कि आरोपित संजीव मेरठ में रह रहा है। सूचना मिलते ही एसटीएफ की टीम ने डीएसपी कुलभूषण के नेतृत्व में मेरठ में बताए गए स्थान पर जाकर दबिश दी तो आरोपित संजीव वहां मिल गया। जिसके बाद टीम ने तुरंत आरोपित संजीव को गिरफ्तार कर लिया। आरोपित से पूछताछ की जा रही है।

मकान की रिपेयर करवाने का बहाना बनाकर ली थी पेरोल

कुरुक्षेत्र जेल के उपाधीक्षक सुभाष चंद ने बताया कि पूर्व विधायक रेलूराम पुनिया व उसके परिवार के आठ लोगों की हत्या करने का दोषी संजीव व उसकी पत्नी सोनिया कुरुक्षेत्र जेल में बंद थे। उन्हें 31 मई 2004 को हिसार के जिला सत्र न्यायाधीश की अदालत ने फांसी की सजा सुनाई थी। उपाधीक्षक ने बताया कि वर्ष 2018 में उसने मकान की रिपेयर करवाने के लिए पेरोल के लिए आवेदन किया था। इसके बाद मई-2018 में 28 दिन के लिए उसे पेरोल की मंजूरी मिल गई थी। उसे 31 मई 2018 को जेल मेें वापस पेश होना था। मगर वह जेल में नहीं पहुंचा। जिसके बाद आरोपित के खिलाफ बिलासपुर पुलिस में मामला दर्ज करवाया गया था।

ये था मामला

हिसार के पूर्व विधायक रेलूराम पुनिया समेत उसके परिवार के आठ लोगों की किसी ने हत्या कर दी थी। उस समय इस हत्याकांड का आरोप पूर्व विधायक के दामाद संजीव व बेटी सोनिया पर लगा था। पुलिस ने उस समय संजीव व सोनिया के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया था।


Next Story