Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

ओवर लोड वाहनों का रूट सर्वे कर जल्द ही कसा जायेगा शिकंजा, अतिरिक्त माल होगा जब्त

हरियाणा राज्य में यातायात के लिए खतरा बनने और सरकार को चूना लगाने वाले ओवरलोड वाहनों पर सरकार लगातार शिकंजा कसती जा रही है। इसी कड़ी में एक और सख्त कदम उठाया गया है। क्षेत्रीय परिवहन प्राधिकरण इन वाहनों की कुंडली खंगाल रहा है। ओवरलोड वाहनों के आने जाने वाले रूट का भी सर्वे किया जा रहा है।

ओवरलोड वाहनों पर RTO अमले ने कसी नकेल, लगाया 18 लाख का जुर्माना
X
RTO staff tightens overload vehicles, fined 18 lakhs

हरियाणा राज्य में यातायात के लिए खतरा बनने और सरकार को चूना लगाने वाले ओवरलोड वाहनों पर सरकार लगातार शिकंजा कसती जा रही है। इसी कड़ी में एक और सख्त कदम उठाया गया है। क्षेत्रीय परिवहन प्राधिकरण इन वाहनों की कुंडली खंगाल रहा है। ओवरलोड वाहनों के आने जाने वाले रूट का भी सर्वे किया जा रहा है। जिससे आने वाले दिनों में ट्रांसपोर्टरों की मुश्किलें और बढ़ जाएंगी।

नई योजना के तहत ओवरलोड वाहनों के रूट की पहचान की जा रही है। जिस क्षेत्र में से ज्यादा ओवरलोड वाहन गुजरते हैं। उनके आसपास जगह लेकर साइट तैयार की जाएंगी ताकि ओवरलोड वाहनों का चालान कर उनका सामान जब्त किया जा सके। इन साइट पर आरटीए के कर्मचारी तैनात किए जाएंगे। इसके लिए सर्वे किया जा रहा है जिसकी रिपोर्ट जल्द ही फाइनल की जाएगी।

इन क्षेत्रों में बनाई गई साइट पर ओवरलोड वाहनों में मिलने वाले सामान को जब्त किया जाएगा। खास बात यह है कि ट्रांसपोर्टर इस सामान को सिर्फ दूसरे वाहन में ही ले जा सकेंगे। इसमें आने वाले खर्च को भी चालान किए गए वाहनों से ही वसूला जाएगा। जनवरी तक सभी साइट तैयार होने की सम्भावना है। जिसके बाद अभियान शुरू कर दिए जाएंगे। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि अकेले दिसम्बर माह में आरटीए ने ट्रांसपोर्टरों की नींद उड़ा दी है। रोहतक में 177 वाहनों के चालान कर जब्त किया जा चुका है। जिनसे 63 लाख का भुगतान करवाया गया है।

यहां यहां चल रहे ओवरलोड वाहन-

लाखनमाजरा से जींद की तरफ ओवरलोड वाहनों का ज्यादा जाना रहता है। फिर आगे यह वाहन महम से होकर भी निकलते हैं। झज्जर से सांपला रोड पर भी भारी वाहनों की तादाद ज्यादा रहती है। यह वाहन आगे सोनीपत की तरफ भी जाते हैं। इसके अलावा रोहतक हिसार और भिवानी रोड पर भी ओवरलोड वाहनों का आना जाना रहता है। इन रूटों की पहचान की जा रही है।

ऐसा पहली बार किया जा रहा है। जिस ओवरलोड वाहन को जब्त कर चालान किया जाएगा और उसका सामान भी मौके पर ही जमा करवा लिया जाएगा। उस ट्रक में वह सामान लेकर नहीं जा सकते। दूसरे वाहन में सामान ले जा सकेंगे। इस पर जो खर्च आएगा वह वाहन मालिक से ही भुगतान करवाया जाएगा। वाहनों का सामान जब्त करने के लिए तीन चार साइट की तलाश की जा रही है। जल्द ही योजना पर काम शुरू हो जाएगा।


Next Story