Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

विश्व रिकार्ड का दावा : हिसार के रोहताश खिलेरी ने फतह की किलिमंजारो, 24 घंटे चोटी पर रूके भी रहे

खिलेरी ने शिखर पर भारत देश का तिरंगा भी फहराया। इस बारे में रोहताश खिलेरी ने सोशल मीडिया में वीडियो जारी कर रिकॉर्ड बनाने का दावा किया है।

विश्व रिकार्ड का दावा : हिसार के रोहताश खिलेरी ने फतह की किलिमंजारो, 24 घंटे चोटी पर रूके भी रहे
X

पर्वतारोही रोहताश खिलेरी।

हरिभूमि न्यूज : हिसार

पर्वतारोही एवं गांव मल्लापुर निवासी रोहताश खिलेरी ने अफ्रीका महाद्वीप की सबसे ऊंची चोटी किलिमंजारो को फतह करते हुए 24 घंटे शिखर पर रुकने का विश्व रिकॉर्ड बनाया है। खिलेरी ने शिखर पर भारत देश का तिरंगा भी फहराया। इस बारे में रोहताश खिलेरी ने सोशल मीडिया में वीडियो जारी कर रिकॉर्ड बनाने का दावा किया है। हालांकि विश्व रिकॉर्ड की अधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है।

खिलेरी व अनु ने एक साथ फतह की थी किलिमंजारो

बता दें कि 23 मार्च की सुबह जिले के गांव मलापुर निवासी पर्वतारोही रोहताश खिलेरी व विद्युत नगर निवासी अनु यादव ने अफ्रीका महाद्वीप की सबसे ऊंची चोटी माउंट किलिमंजारो को फतह किया था। चोटी फतह करने के उपरांत अनु यादव सकुशल वापस नीचे बेस कैंप पहुंच गई है, लेकिन रोहताश खिलेरी चोटी पर 24 घंटे रूकने का रिकॉर्ड बनाने के प्रयास में वहीं रूक गए। बाद में उनकी तलाश में रेस्कयू टीम रवाना हो गई थी।

किलिमंजारो पर माइनस 20 डिग्री रहता है तापमान

विदित हो कि रोहताश खिलेरी व अन्नु यादव को 21 फरवरी को दिल्ली से अफ्रीका महाद्वीप की सबसे ऊंची चोटी की चढ़ाई के लिए रवाना होना था, लेकिन मौसम खराब होने के कारण नही जा पाए। इसके बाद 15 मार्च को दिल्ली से अफ्रीका के लिए वे रवाना हुए थे और 17 मार्च को चढ़ाई शुरू की थी। माउन्ट किलिमंजारो की ऊंचाई 5895 मीटर है जहां माइनस 20 डिग्री तापमान रहता है।

यह हैं उपलब्धियां

# माउंट एवरेस्ट 16 मई 2018

# माउंट किलिमंजारो 23 जुलाई 2018

# माउंट एलब्रुस 4 सितंबर 2018

# माउंट एलब्रुस 1 फरवरी 2020

# माउंट फ्रैंडशिप 9 अक्टूबर 2020

# इसके साथ ही रोहताश खिलेरी माउंट एलब्रुस को समर और विंटर में फतेह करने वाले पहले भारतीय पर्वतारोही हैं और माउंट एवरेस्ट के शिखर पर 24 घंटे रुक कर भारत के तिरंगे को लहराना चाहते हैं।


Next Story