Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

राजनीति से ऊपर उठकर 'माननीय' मिलकर लड़ेंगे कोरोना से जंग

विधानसभा अध्यक्ष ज्ञानचंद गुप्ता के साथ वर्चुअल संवाद में सभी दलों के विधायकों ने दिया सहयोग करने का आश्वासन।

राजनीति से ऊपर उठकर माननीय मिलकर लड़ेंगे कोरोना से जंग
X

वर्चुअल संवाद करते विधानसभा अध्यक्ष ज्ञानचंद गुप्ता।

विधानसभा अध्यक्ष ज्ञान चंद गुप्ता की ओर से आयोजित वर्चुअल संवाद में सभी दलों के विधायकों ने राजनीति से ऊपर उठकर एकजुट होकर कोरोना से लड़ने का संकल्प दोहराया। वर्चुअल बैठक के दौरान अनेक विधायकों ने प्रदेश में बढ़ते कोरोना और घटती ऑक्सीजन की मात्रा पर चिंता जताई तो कुछ ने सोशल मीडिया पर फैल रही अफवाहों पर अंकुश लगाने की मांग की।

रोहतक से कांग्रेस विधायक भारत भूषण बत्रा ने अस्पतालों में हो रही ऑक्सीजन की कमी का मुद्दा उठाया। उन्होंने सुझाव दिया कि प्रदेश में दुकानों का समय शाम 6 बजे तक ही सीमित करना चाहिए। रेवाड़ी से विधायक लक्ष्मण यादव ने कहा कि अस्पतालों में बेड की कमी होती जा रही है। इसके लिए सरकार को कारगर कदम उठाने चाहिए। गुरुग्राम से विधायक सुधीर सिंगला ने आईएएस अफसरों के रवैये पर नाराजगी जताई। उन्होंने एक अधिकारी का नाम लेकर कहा कि वे प्रदेश सरकार की योजना से गुरुग्राम में कोरोना के हालात का जायजा लेने आए, लेकिन अपने दौरे की स्थानीय जनप्रतिनिधि को सूचना तक नहीं दी। उन्होंने डॉक्टरों की टीम भेजने के लिए प्रदेश सरकार की तारीफ भी की।

अम्बाला शहर से विधायक असीम गोयल ने कहा कि लोग जनप्रतिनिधियों से काफी अपेक्षा करते हैं। इसके चलते वे अधिकारपूर्वक सहायता भी मांगते हैं। इसलिए स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को जनप्रतिनिधियों की बात को गंभीरता से लेते हुए लोगों की मदद करनी चाहिए। साथ ही उन्होंने कहा कि एनसीआर में हालात ज्यादा बिगड़ रहे हैं। इसलिए एनसीआर जिलों में व्यावसायिक गतिविधियों के लिए शाम 6 या 7 बजे तक का समय निर्धारण कर सकते हैं।

यमुनानगर के विधायक घनश्याम दास अरोड़ा ने कहा कि पेनिक रोकने के लिए सेनेटाइजेशन की प्रक्रिया को तेज करने की आवश्यकता है। उन्होंने सुझाव दिया कि कोविड अस्पताल में परिजनों को रोगी से मिलने नहीं जाना चाहिए। ऐसा करने से संक्रमण का खतरा बढ़ सकता है।

नारनौल से विधायक डॉ. अभय सिंह यादव ने कहा कि उनके हलके में हालात काफी संतोषजनक हैं। इसके लिए उन्होंने ईश्वर का आभार व्यक्त किया। असंध से विधायक शमशेर सिंह गोगी ने मंडियों में किसानों को दिक्कतों का उल्लेख किया। उन्होंने कहा कि बारदाना पर्याप्त नहीं होने के कारण गेहूं की खरीद धीमी गति से हो रही है। इसलिए किसानों को कई दिन तक रुकना पड़ रहा है। ऐसे में संक्रमण की आशंका बढ़ जाती है।

फरीदाबाद एनआईटी से कांग्रेस नीरज शर्मा ने विधान सभा अध्यक्ष ज्ञान चंद गुप्ता के इस वर्चुअल संवाद को मिनी विधान सभा बताया। उन्होंने कहा कि इस संवाद में प्रदेश सरकार के वरिष्ठ अधिकारियों को भी शामिल किया जाना चाहिए था। इस पर विधान सभा अध्यक्ष ने सभी विधायकों को आश्वासन दिया कि उनकी बात मुख्यमंत्री और स्वास्थ्य मंत्री तक पहुंचा दी जाएगी।

घरोंडा से भाजपा विधायक हरविंद्र कल्याण ने कहा कि सरकारी अस्पतालों में व्यवस्था पूरी हो चुकी है। अब सरकार को चाहिए कि प्राइवेट अस्पतालों की सेवाएं लें। उन्होंने कहा कि जरूरतमंतों तक राशन वितरण के लिए खाद्य आपूर्ति विभाग को विशेष सैल बनाना चाहिए। झज्जर से कांग्रेस विधायक गीता भुक्कल ने कहा कि कोरोना महामारी से पूरी मानव जाति पर संकट आया है। उन्होंने सुझाव दिया कि कोविड से मरने वालों के इलेक्ट्रिक संस्कार की व्यवस्था भी सरकार को विचार करना चहिए। उन्होंने कहा कि किसान आंदोलन भी अब समाप्त हो जाना चाहिए, क्योंकि जब लोग बचेंगे तभी उनकी मांगों की बात होगी।

हिसार से भाजपा विधायक कमल गुप्ता ने कहा कि जनप्रतिनिधियों को वेक्सिनेशन मुहिम को प्रोत्साहित करना चाहिए। उन्होंने अपना उदाहरण बताते हुए कहा कि सभी जनप्रतिनिधियों को अपने परिजनों को यह वेक्सीन लगवानी चाहिए तथा इसका प्रचार भी करना चाहिए। नूह जिले के पुन्हाना हलके से कांग्रेस विधायक मोहम्मद इलियास ने कहा कि कोविड प्रोटोकॉल का पालन नहीं करने वाले लोगों पर सख्ती बरतनी चाहिए। थानेसर से भाजपा विधायक सुभाष सुधा ने शादियों में भीड़ रोकने की बात कही। नारायणगढ़ से विधायक शैली ने ग्रामीण क्षेत्रों में बढ़ते कोरोना के केसों पर चिंता जताई।



Next Story