Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

विभाग के करोड़ों रुपये न लौटाने पर राइस मिल सील, सामान जब्त

खाद्य आपूर्ति विभाग ने बकायेदार पर की बड़ी कार्रवाई, मिल के अंदर पड़ा सारा सामान जब्त, नोटिस चस्पाया।

कस्टम मिलिंग के लिए राइस मिलरों को काराना होगा पंजीयन
X
चावल मिल (प्रतीकात्मक फोटो)

हरिभूमि न्यूज : करनाल

खाद्य आपूर्ति विभाग ने बड़ी कार्रवाई करते हुए अराईंपुरा रोड पर स्थित शिव शंकर राइस मिल को सील कर दिया है। राइस मिल पिछले कई सालों से बंद पड़ी हुई थी। मिल मालिक पर विभाग का करोड़ों रुपया बकाया था। कार्यवाही करते हुए विभागीय अधिकारियों ने मिल के अंदर पड़ा सभी सामान को अपने में कब्जे में लेकर मिल के बाहर नोटिस चिपकने की भी कार्यवाही की है। जिला उपयुक्त के आदेश पर सोमवार को ड्यूटी मजिस्ट्रेट रमेश कुमार खाद्य आपूर्ति अधिकारी इंदर सिंह संधू, राजेंदर कुमार व निरज वधवा पुलिस बल के साथ अराईंपुरा रोड पर शिव शंकर राइस मिल में पहुंचे। मौके पर पहुंच अधिकारियों ने कार्यवाही को अंजाम देना शुरू कर दिया।

मिल मालिक ने न तो समय पर चावल दिया और न ही राशि का भुगतान किया

खाद्य आपूर्ति अधिकारी इंद्र संधू ने बताया कि शिव शंकर राइस पर विभाग का करीब 14 करोड़ रुपया बकाया था। मिल मालिक ने न तो समय पर चावल दिया और न ही राशि का भुगतान किया है। उन्होंने बताया कि शिव शंकर राइस मिल को वर्ष 2013 -2014 में सी-आर का 77512. 40 कि्वंटल धान अलाट किया गया था। जिसमे राइस मिल को 51933 .31 कि्वंटल चावल एफ सी आई को वापस करना था। लेकिन राइस मिल ने समय रहते चावल एफसीआई को जमा नहीं करवाया। और विभाग से और कुछ समय देने की मांग की। संधू ने बताया कि ओर समय दिने के बाद मिल मालिक ने विभाग को 10783 . 85 किवंटल चावल जमा करवा दिया था और बकाया 41149.70 चावल अभी तक जमा नहीं करवाया था। जिसको लेकर विभाग ने मिल मालिकों व उनके गारंटरों को कई बार पत्र व्यवहार किया। लेकिन कोई जवाब न मिलने पर विभाग की और से कार्यवाही करते हुए मिल मालिक व गारंटरों के खिलाफ भी मामला दर्ज करवा दिया गया था। उन्होंने बताया कि बकाया चावल की कीमत 13 करोड़ 70 लाख 12 हजार 770 रुपये बनती है। जो विभाग को नहीं जमा करवाई गयी। विभाग की और से चावल या रुपये की वसूली के लिए जिला उपायुक्त को पत्र लिखा गया था। जिला उपायुक्त की तरफ से आदेश मिलने के बाद आज इस मिल को सील कर दिया गया है।

Next Story