Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

मतपेटियों की मरम्मत शुरू, इलेक्शन सामग्री भी पहुंची पर पंचायत चुनाव का फैसला बीस अप्रैल के बाद ही होगा

गत 30 मार्च को चुनाव से संबंधित सामग्री भी पहुंच चुकी है। इससे पहले 19 मार्च को जिला निर्वाचन अधिकारी पंचायत बीते चुनाव में हुए खर्च का भी ऑडिट करवा चुका है। इलेक्शन के लिए ईवीएम मिलने में अभी कुछ समय और लगेगा। क्योंकि बेंगलुरु से राज्य निर्वाचन आयोग ने इस बार नई इलेक्ट्रोनिक वोटिंग मशीन मंगवाई हैं। पुरानी ईवीएम को तीन महीने पहले बेंगलुरु भेज जा चुकी हैं।

मतपेटियों की मरम्मत शुरू, इलेक्शन सामग्री भी पहुंची पर पंचायत चुनाव का फैसला बीस अप्रैल के बाद ही होगा
X

रोहतक : बाल भवन स्थित स्टोर में मतपेटियों की ऑवरहालिंग करते कर्मचारी।

अमरजीत एस गिल : राेहतक

पंचायती राज संस्थाओं के छठे आम चुनाव को लेकर जिला निर्वाचन अधिकारी पंचायत ने मतपेटियों की मरम्मत का कार्य शुरू करवा दिया है। ये मतपेटियां पिछले दिनों जम्मू-कश्मीर के पंचायत चुनाव में प्रयोग की गई थी। कुछ समय पूर्व ही ये बैलटबॉक्स वापिस रोहतक पहुंचे हैं। अब इनमें प्रशासन ग्रीसिंग करवा रहा है। ताकि जब पंचायत चुनाव हो तो ये तकनीकी रूप से हों।

बताया जा रहा है कि दो हजार से अधिक मतपेटियों की अगले कुछेक दिनों में ऑवरहालिंग करवा दी जाएगी। ताकि जब राज्य निर्वाचन आयोग पंचायती राज संस्थाओं के आम चुनाव की घोषणा करें तो प्रशासनिक तैयारियां मुकम्मल रहें। गत 30 मार्च को चुनाव से संबंधित सामग्री भी पहुंच चुकी है। इससे पहले 19 मार्च को जिला निर्वाचन अधिकारी पंचायत बीते चुनाव में हुए खर्च का भी ऑडिट करवा चुका है। इलेक्शन के लिए ईवीएम मिलने में अभी कुछ समय और लगेगा। क्योंकि बेंगलुरु से राज्य निर्वाचन आयोग ने इस बार नई इलेक्ट्रोनिक वोटिंग मशीन मंगवाई हैं। पुरानी ईवीएम को तीन महीने पहले बेंगलुरु भेज जा चुकी हैं।

वहीं ऑड आरक्षण को लेकर महिलाओं ने हाईकोर्ट में याचिका दायर की हुई है। इस मामले की अगली सुनवाई 20 अप्रैल को होनी है। इसमें सरकार ने ऑड आरक्षण को लेकर न्यायालय में दलीलें रखनी हैं। अगर उस दिन कोर्ट इस मसले को लेकर कोई फैसला कर देता है तो फिर सरकार तुरंत चुनाव प्रक्रिया शुरू करवा देगी, लेकिन ऐसा होगा नहीं। क्योंकि वर्ष 2015 में भी कई महीने तक इलेक्शन का मामला विभिन्न कोर्ट में विचारधीन रहा था। चुनाव जुलाई 2015 में होने थे, लेकिन हुए जनवरी 2016में।

लॉक व सील लगती हैं मतपेटियों को

मतदान की प्रक्रिया शुरू करने से पहले मतपेटियों की चुनाव एजेंटों की मौजूदगी में अच्छी तरह से जांच करवाकर उस पर पहले लॉक लगा दिया जाता है। इसके बाद लॉक पर पोलिंग पार्टी सील लगा देती है। ताकि कोई भी व्यक्ति मतपेटी के साथ छेड़छाड़ करें तो उसकी जानकारी मिल सके। बैलटबॉक्स पर लॉक तभी लगता है, जब उस पर जंग वगैरह न लगा हो। अगर मतपेटी के उपरी हिस्से पर जंग लगा होता है तो लॉक नहीं लग पाता। अब कर्मचारियों की टीम इन बैलटबॉक्स के लॉक वाले हिस्सों पर ग्रीस और तेल लगा रहे हैं। ताकि इन पर आसानी से लॉक लगाया जा सके।

चुनाव के हिसाब से तैयार होंगे बैलटबॉक्स

मतपेटियों की ऑवरहॉलिग शुरू करवा दी गई है। जल्द ही बैलटबॉक्स को चुनाव के हिसाब से तैयार करवा दिया जाएगा। चुनाव सामग्री भी पिछले सप्ताह प्राप्त की जा चुकी है। -जितेंद्र लाठर, सहायक जिला निर्वाचन अधिकारी पंचायत

Next Story