Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

CBSE स्कूलों के लिए राहत भरी खबर : 8वीं कक्षा की बोर्ड परीक्षा पर होगा पुनर्विचार, शिक्षा मंत्री का आश्वासन

हरियाणा के शिक्षा मंत्री कंवरपाल सेे मिलनेे पहुंचे अभिभावकों ने बताया कि स्कूलों में बच्चों ने तैयारी सेमेस्टर सिस्टम के हिसाब से की हुई है ऐसे में पूरे पाठ्यक्रम का एक साथ पेपर लेना अब ठीक नहीं है।

CBSE स्कूलों के लिए राहत भरी खबर : 8वीं कक्षा की बोर्ड परीक्षा पर होगा पुनर्विचार, शिक्षा मंत्री का आश्वासन
X

शिक्षा मंत्री कंवरपाल से मिलने पहुंचे अभिभावक। 

हरिभूमि न्यूज.यमुनानगर

हरियाणा के शिक्षा मंत्री कंवरपाल (Kanwar Pal) ने कहा की सीबीएसई पाठ्यक्रम से प्रदेश के स्कूलो में आठवीं कक्षा में पढ़ रहे बच्चों के बोर्ड एग्जाम (Board exam) के लिये पुनर्विचार किया जायेगा। उन्होने शनिवार को उनके जगाधरी स्थित कार्यालय पर उन्हें बड़ी संख्या में मिलने पहुंचे बच्चों के अभिभावकों को आश्वासन देते हुए उक्त शब्द कहे।

अभिभावकों ने शिक्षा मंत्री कंवरपाल के सम्मुख समस्या रखी की सीबीएससी के हर स्कूल का पाठ्यक्रम अलग है, हर स्कूल में एनसीईआरटी की पुस्तकें नहीं लगी हुई हैं, लगभग हर स्कूल ने अलग-अलग प्राइवेट पब्लिकेशन की पुस्तकें पढ़ाई के लिए लगवाई हुई है, ऐसे में अगर बोर्ड पेपर लेता है तो यह सभी बच्चों के लिए संभव नहीं होगा कि वह उसकी तैयारी कर पाएंगे,सीबीएसई से सम्बंधित ज्यादातर विद्यालयो में सीबीएसई पाठ्यक्रम के अंतर्गत प्राइवेट पब्लिकेशन की पुस्तकें लगी हुई है जिन्हें विद्यार्थियों ने पढ़ा है यह पुस्तक लगभग हर विद्यालय में अलग-अलग होती हैं ,ऐसे में एक जैसा पेपर बोर्ड द्वारा लेना वर्तमान में ठीक नहीं है, जब बच्चों ने तैयारी प्राइवेट पब्लिकेशन की पुस्तकों की है तो बच्चे एनसीईआरटी पाठ्यक्रम का पेपर कैसे दे पाएंगे।

अभिभावकों ने बताया कि स्कूलों में बच्चों ने तैयारी सेमेस्टर सिस्टम के हिसाब से की हुई है ऐसे में पूरे पाठ्यक्रम का एक साथ पेपर लेना अब ठीक नहीं है,अभिभावकों ने शिक्षा मंत्री कंवरपाल से गुहार लगाते हुए कहा कि इस साल एकदम से साल के अंत में ऐसे बोर्ड की परीक्षा लेना ठीक नहीं है, अगर आप अगले सत्र के शुरू में ही घोषणा कर देंगे की आठवीं कक्षा का बोर्ड का एग्जाम होगा तो हम इस पर कोई आपत्ति नहीं है हम उस निर्णय का स्वागत करेंगे,अभिभावकों की बात सुनकर शिक्षा मंत्री चौधरी कंवरपाल ने कहा कि वह इस बारे में अधिकारियों से बात करेंगे व निर्णय पर पुनर्विचार करेंगे।

और पढ़ें
Next Story