Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

धू-धू कर जल उठा अहंकार : 10 लाख रुपये से बना रावण का 100 फुट ऊंचा पुतला चंद मिनटों में हो गया राख

एक महीने में तैयार इस 100 फुट को पुतले को खड़ा करने के लिए चार क्रेनों की मदद ली गई थी। पुतले का वजन लगभग 22 क्विंटल था। चंडीगढ़, हिमाचल प्रदेश, पंजाब, उतर प्रदेश आदि राज्यों से भी लोग बराड़ा में पुतले को देखने पहुंचे।

धू-धू कर जल उठा अहंकार : 10 लाख रुपये से बना रावण का 100 फुट ऊंचा पुतला चंद मिनटों में हो गया राख
X

100 फुट ऊंचे रावण के पुतले का दहन और मौके पर मौजूद लोगों की भीड़ 

हरिभूमि न्यूज. बराड़ा ( अंबाला )

देश के सबसे उंचे रावण के पुतले का दहन शुक्रवार को बराड़ा में रिमोट से दहन किया गया। समाजसेवी हन्नी पाहवा ने बटन दबाकर दहन किया, जिसके चंद मिनटों में ही पुतला धूं-धूं कर जलने लगा और कुछ ही पल में राख हो गया। इसके साथ ही यहां रावण दहन का कार्यक्रम विधिवत रूप से संपन्न हो गया। क्लब के अध्यक्ष तेजिंद्र चौहान के दिशा-निर्देशन में इस पुतले का निर्माण किया गया था। इस दौरान इको फ्रैंडली आतिशबाजी का इस्तेमाल किया गया। स्थानीय लोगों के अलावा चंडीगढ़, हिमाचल प्रदेश, पंजाब, उतर प्रदेश आदि राज्यों से भी यहां लोग पुतले को देखने के लिए पहुंचे थे। एक महीने में तैयार इस 100 फुट को पुतले को खड़ा करने के लिए चार क्रेनों की मदद ली गई थी।

तीन साल बाद फिर हुई चहल-पहल

इस दशहरा मैदान में तीन साल बाद दशहरे पर फिर से रौनक देखने को मिली। लिम्का बुक ऑफ रिकार्ड में अपना नाम दर्ज करवाने वाले श्री राम लीला क्लब द्वारा 3 वर्षो के अंतराल के बाद इस सौ फीट के रावण को पुतले को तैयार किया है। इससे पहले क्लब के नाम विश्व का सबसे उंचा रावण का पुतला बनाने का रिकार्ड भी है। इससे पहले क्लब की ओर से 221 फीट का लंबा पुतला बनाया जा चुका है। तीन साल पहले बराड़ा का दशहरा विश्व प्रसद्धि माना जाता था। लेकिन पिछले तीन साल से रावण का पुतला न बन सका था। इस 100 फीट के पुतले को बनाने में लगभग एक महीने का समय लगा है और दस लाख के करीब खर्च आया है। पुतले का वजन लगभग 22 क्विंटल था। इस दौरान यहां की दो बेटियों ने स्वच्छता का संदेश भी दिया।


Next Story