Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

खुद के पैर पर खड़े नहीं हो पाए "रावण"

शहर के अर्जुन नगर (Arjun Nager) में दशहरा समिति द्वारा विजय दशमी पर्व के अवसर पर मदनपुरी मुख्य मार्ग स्थित जनस्वास्थ्य केंद्र के सामने मैदान में रावण दहन कार्यक्रम का आयोजन किया।

खुद के पैर पर खड़े नहीं हो पाए रावण
X

गुरुग्राम के अर्जुन नगर में जमीन पर गिरे हुए रावण के पुतले को लगाई गई आग।

गुरुग्राम। ऐसा पहली बार हुआ है कि रावण के पुतले का जमीन पर पड़े हुए का ही दहन (Combustion) करना पड़ा। यह कोई नई प्रथा नहीं बल्कि ऐसा करने के पीछे बिजली के तार कारण बने। पुतला फूंकने के दौरान आयोजकों को भी कड़ी मशक्कत करनी पड़ी।

शहर के अर्जुन नगर में दशहरा समिति द्वारा विजय दशमी पर्व के अवसर पर मदनपुरी मुख्य मार्ग स्थित जनस्वास्थ्य केंद्र के सामने मैदान में रावण दहन कार्यक्रम का आयोजन किया। इस दौरान आस-पास के क्षेत्रों के लोग बड़ी संख्या में शामिल हुए। दिन से ही रावण दहन की तैयारियां की जा रही थी। समिति ने रावण के पुतले पर काफी पैसा खर्च किया।

उन्होंने 40 फुट ऊंचा रावण का पुतला बनवाया था। धूमधाम से पुतले के दहन पर उस समय पानी फिर गया, जब कई बार प्रयासों के बाद भी रावण (Ravan) के पुतले को खड़ा नहीं किया जा सका। क्योंकि जिस मैदान पर यह रावण दहन होना था, वहां पर बिजली व अन्य उपकरणों की तारों का जाल बिछा हुआ है।

ऐसे में पुतले को खड़ा करना चुनौती थी। समिति के संयोजक दलीप लूथरा के मुताबिक यहां पर गुरुग्राम के विधायक सुधीर ङ्क्षसगला को रावण दहन के लिए आना था, लेकिन बरोदा चुनाव में व्यस्तता के चलते वे नहीं आ पाए। समिति की ओर से जमीन पर पड़े हुए ही रावण के पुतले का मजबूरी में दहन करना पड़ा। शहर में पहली बार इस तरह से पुतले का दहन किया गया है। यह क्षेत्र में चर्चा बना रहा।



और पढ़ें
Next Story