Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

राकेश टिकैत बोले : भ्रम फैला रहे PM, वो नंबर क्यों नहीं दे रहे जिस पर बात करनी है

राकेश टिकैत ने कहा कि प्रधानमंत्री ने देश के किसानों के साथ मजाक किया है। सरकार एमएसपी तय कह रही है, लेकिन कानून बनाने से इंकार कर रही है।

राकेश टिकैत बोले : भ्रम फैला रहे PM, वो नंबर क्यों नहीं दे रहे जिस पर बात करनी है
X

किसान महापंचायत को संबोधित करते राकेश टिकैत।

हरिभूमि न्यूज. बहादुरगढ़

शुक्रवार को बहादुरगढ़ में दलाल खाप-चौरासी द्वारा आयोजित किसान महापंचायत को संबोधित करते हुए किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा कि ये पंचायतें किसानों को आंदोलन से जोड़ने का काम कर रही हैं। आंदोलन के तहत कच्चे मोर्चों को पक्का किया जा रहा है। उन्होंने लोगों से आह्वान किया कि पैदल मार्च के लिए भी तैयार रहें। गुरनाम सिंह चढूनी ने कहा कि आंदोलन तब तक चलेगा, जब तक जीत नहीं जाते। साथ ही कहा कि प्रधानमंत्री भ्रम फैलाने का काम कर रहे हैं। उन्होंने वो नंबर ही नही दिया, जिस पर बात करनी है। सभी फसलों की एमएसपी खरीद की गारंटी होनी चाहिए। एमएसपी से कम रेट पर फसल खरीदने वाले को सजा होनी चाहिए।

शहर के बाईपास पर पीडीएम यूनिवर्सिटी के निकट हुई किसान महापंचायत को किसान नेता राकेश टिकैत, गुरनाम सिंह चढूनी, संयुक्त किसान मोर्चा के प्रवक्ता दर्शनपाल, जोगेंद्र सिंह उग्राहा, युद्धवीर सिंह, जगजीत सिंह दल्लेवाला व अभिमन्यु कोहाड़ आदि ने संबोधित किया। राकेश टिकैत ने कहा कि खाप पंचायतें पूरे देश में किसानों को जोड़ने का काम कर रही हैं। उनके अनुसार प्रधानमंत्री ने देश के किसानों के साथ मजाक किया है। साथ ही कहा कि किसान आंदोलन में घुसने वाले असमाजिक तत्वों को पहचाने का काम किया जा रहा है। सरकार एमएसपी तय कह रही है, लेकिन कानून बनाने से इंकार कर रही है। आज देशभर के किसानों को न्यूनतम से भी नीचे फसल का भाव मिल रहा है। किसान तो 11 दौर वार्ता विफल रहने के बाद भी बात करने को तैयार है। लेकिन सरकार की तरफ से वार्ता का बुलावा नहीं आया है।

उन्होंने कहा कि सरकार बनाने वाले किसानों को हराया नहीं जा सकता। हम इस आंदोलन में जीतकर अपने घर जाएंगे। सरकार छोटे-बड़े किसान और बदनाम करके आंदोलन को कमजोर करना चाहती है। किसान नेताओं को गालियां दिलवाई जा रही हैं। उन्होंने कहा कि लाल किले पर अपने आदमियों से झंडा फहरवा कर राष्ट्रध्वज का अपमान करवाने वाले किसानों को फंसाना चाहते हैं। हम जय जवान जय किसान का नारा सार्थक करने दिल्ली गए थे। उन्होंने कहा कि तीनों कानून रद हों, एमएसपी पर कानून बने और किसानों पर मुकदमें वापिस लिए जाएं। उनके अनुसार अगला लक्ष्य 40 लाख ट्रैक्टर लेकर चलने का है। उन्होंने कहा कि गुजरात के किसानों को भी इस आंदोलन में जोड़ेंगे। साथ ही किसान नेताओं ने 16 फरवरी को सांपला गढ़ी में सर छोटूराम जयंती पर ज्यादा से ज्यादा संख्या में पहुचने की अपील की।



Next Story