Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

बरसात ने खोली प्रशासन की पोल, सफाई न होने से नाले ओवर फ्लो, दुकानों व घरों में घुसा गंदा पानी

हरियाणा राज्य के रोहतक जिले के महम कस्बे के नालों की सफाई नहीं होने के कारण वीरवार को थोडी बारिश ने प्रशासन की पोल खोलकर रख दी। नाले ओवर फलो हो गए तथा नालों का गंदा पानी सड़कों व गलियों में बहने लगा। नालों की सफाई नहीं किए जाने से बारिश आने के कारण सारा गंदा पानी मकानों व दुकानों में घुस गया है।

शैलेंद्रनगर के बड़े नाले की मशीन से सफाई
X
नाला (प्रतीकात्मक फोटो)

हरियाणा राज्य के रोहतक जिले के महम कस्बे के नालों की सफाई नहीं होने के कारण वीरवार को थोडी बारिश ने प्रशासन की पोल खोलकर रख दी। नाले ओवर फलो हो गए तथा नालों का गंदा पानी सड़कों व गलियों में बहने लगा। नालों की सफाई नहीं किए जाने से बारिश आने के कारण सारा गंदा पानी मकानों व दुकानों में घुस गया है। जिसके कारण लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ा।

रोहतक रोड के दुकानदार बंटी कुमार, सुरेन्द्र सिंह, सागर सिंह, सुरेंद्र कुमार, दिनेश व संजय ने बताया कि उनकी दुकानों के सामने सड़क के किनारे बनाए गए नालों की सफाई कई सालों से सफाई नहीं हो पाई है। जिसके कारण नाले अटे पड़े हैं। नाले बंद होने के कारण गंदा पानी उनकी दुकानों में घुस गया है। जिससे उन्हें काफी परेशानी हो रही हैं।

इसकी सफाई के लिए अनेकों बार गुहार लगाई जा चुकी है। इसके अलावा गोहाना रोड पर स्थित काली देवी मंदिर की गद्यीनशीन आशा देवी का कहना है कि गोहाना रोड का बांई ओर का नाला पिछले लगभग डेढ़ वर्ष से साफ नहीं किया गया है। जिसके कारण नाले का पानी ओवर फलो होने के बाद मंदिर में वापिस बैक मारने लगा है। जिससे मंदिर में समस्या बन गई हैं। इसकी सफाई के लिए नगरपालिका के अधिकारियों को बताया जा चुका है। बॉक्स

सफाई कर्मचारी इसे खोलने के लिए आ चुके हैं। लेकिन नाला खोलने के साधन नहीं होने के कारण उसे ज्यों का त्यों छोड़कर वापिस चले जाते हैं। इसे लेकर मंदिर में आने वाले भक्तों में रोष बना हुआ है। भक्तों का कहना है कि यदि इस समस्या का स्थाई समाधान नहीं किया गया तो इसकी शिकायत उपायुक्त को भेजी जाएगी।

दूसरी ओर कस्बा वासी अनिल कुमार, अजय कुमार, महेन्द्र सिंह, नरेश कुमार, भारत, श्याम सुन्दर, प्रवीन खत्री कुलदीप सिंह, संदीप सिंह व रवि ने बताया कि बारिश आने से गंदगी और बढ़ गई है। उन्होंने कहा कि 31 दिस्मबर को नगरपालिका की ओर से सफाई कर्मचारियों का कार्यकाल पूरा होने के बाद उन्हे नौकरी से निकाल दिया गया था। उस दिन के बाद कस्बे के अन्य वार्डों में गंदगी के ढेर लगे हुए हैं। लोगों का कहना है कि नगरपालिका को कस्बे की ओर सफाई पर ध्यान देना चाहिए ताकि कस्बे में गन्दगी से फैलने वाली बिमारियों से बचा जा सके ।

कर्मचारी बढ़ाने के लिए लिखेंगे उच्चाधिकारियों को पत्र

31 दिसम्बर तक उनके पास 36 सफाई कर्मचारी थे। डीएमसी कार्यालय की ओर से अब 36 के स्थान पर 20 कर्मचारियों को लगाने की अनुमति दी है। जो कस्बे के क्षेत्र के हिसाब से कम है। सफाई व्यवस्था को ठीक रखने की कोशिश की जाएगी तथा डीएमसी कार्यालय में ओर सफाई कर्मचारी बढ़ाने जाने के लिए पत्र लिखेंगे।


Next Story