Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

कमीशन लेकर फर्जी दस्तावेजों के सहारे बैंकों से करते थे करोड़ों का गबन, सरगना सहित तीन गिरफ्तार

आरोपी नरेश कुमार ने बताया कि वह कमीशन रेट पर बैकों से लोन करवाता है, जिस कारण उसकी तहसील कार्यालय व कई बैंकों में काफी अच्छी जान पहचान व सांठगांठ है।

कमीशन लेकर फर्जी दस्तावेजों के सहारे बैंकों से करते थे करोड़ों का गबन, सरगना सहित तीन गिरफ्तार
X

पुलिस द्वारा काबू किए गए आरोपी।

हरिभूमि न्यूज : कैथल

ढांड पुलिस ने बैंकों से जालसाजी करके धोखाधड़ी पूर्वक करोड़ों रुपये का गबन करने वाले रैकेट का भंडाफोड़ करते हुए गिरोह सरगना सहित 3 आरोपी गिरफतार किए हैं। एक आरोपी से 1,70,000 रुपये बरामद किए हैं। तीनों आरोपी अदालत में पेश किए, जहां से गिरोह सरगना सहित 2 आरोपियों का 8 अप्रैल तक रिमांड हासिल किया गया है, जबकि तीसरा आरोपी न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया।

पुलिस अधीक्षक लोकेंद्र सिंह ने बताया कि गांव आंहू स्थित सैंट्रल बैंक के प्रबंधक प्रिंस मित्तल ने शिकायत दी थी कि कुछ आरोपियों ने बोगस दस्तावेज तैयार करके धोखाधड़ी करते हुए बैंक बड़े पैमाने पर लाखों का गबन कर लिया। पुलिस ने 2 अप्रैल को आरोपी बलवान सिंह निवासी पूंडरी को गिरफतार किया। इसे 6 अप्रैल तक रिमांड पर लिया था। बलवान से पूछताछ के दौरान जालसाज रैकेट के सरगना करीब 41 वर्षीय नरेश कुमार निवासी पूंडरी तथा नरेश के सहायक करीब 23 वर्षीय आरोपी रोहित निवासी चंदलाना को भी काबू कर लिया।

10 प्रतिशत कमीशन के लालच में धोखाधड़ीपूर्वक अलग-अलग बैंको से करवाते थे जमीन का लोन

टीम ने नरेश कुमार से पूछताछ की तो उसने कबूला कि वह कमीशन रेट पर बैकों से लोन करवाने का काम करता है, जिस कारण उसकी तहसील कार्यालय व कई बैंकों में काफी अच्छी जान पहचान व सांठगाठ है। उसकी रोहित निवासी चंदलाना से गांव का भांजा होने कारण अच्छी जान-पहचान थी, जिसके कंप्यूटर के काफी जानकारी होने कारण रोहित को भी लोगों की जमीनी की फर्द में फेर बदल करके विभिन्न लोगों को अलग-अलग बैंको से लोन दिलवाने के धंधे में अपने साथ मिला लिया।

जिसकी एवज में आरोपी नरेश कुमार बैंक से हुए लोन का 10 प्रतिशत हिस्सा कमीशन के तौर पर ले लेता था। जबकि अपने साथी रोहित को प्रत्येक फर्द के फेरबदल की एवज में 2500 रुपए प्रति फर्द कमीशन देता था। नरेश ने कबूला कि वह जाली मोहरों की मार्फत बोगस कागजात तैयार करते समय पटवारी आदी के जाली हस्ताक्षर स्वम कर लेता था तथा अब तक विभिन्न लोगों से कमीशन के तौर पर करीब 25 लाख रुपए नकदी ले चुका है, जिसमें से लगभग 50 हजार रुपए नकदी उसने फर्दो में बदलाव करने की एवज में अपने साथी रोहित को दे दी थी।


Next Story