Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

ड्रॉप आउट बच्चों के सर्वे में शिक्षकों की ड्यूटी लगाने पर बिफरा प्राथमिक शिक्षक संघ

शिक्षक संघ प्रतिनिधिमंडल ने कहा कि जिले के अधिकतर प्राथमिक स्कूलों में शिक्षकों के तीन चार पद ही स्वीकृत है और तीन कक्षाएं लग रही है। ऐसी स्थिति में सर्वे करना संभव नहीं है।

Himachal School Reopen: आज से छात्रों के लिए खुले हिमाचल के स्कूल, बच्चों के चेहरे पर दिखी खुशी
X

प्रतीकात्मक तस्वीर

हिसार : ड्राप आउट बच्चों के सर्वे में शिक्षकों की ड्यूटी लगाए जाने पर राजकीय प्राथमिक शिक्षक ने कड़ी आपत्ति जताई है। इस मुद्दे को लेकर संघ के एक प्रतिनिधिमंडल ने समग्र शिक्षा की जिला परियोजना संयोजक चंद्रकला से मुलाकात की और ज्ञापन सौंपते हुए यह सर्वे आंगनवाड़ी वर्कर व सक्षम युवा के माध्यम से कराने की मांग की। इसी संदर्भ में एक ज्ञापन उपायुक्त के नाम भी सौंपा गया।

शिक्षक संघ प्रतिनिधिमंडल ने कहा कि कोविड 19 के कारण प्रदेश भर के स्कूल 11 महीने से बंद है और अब एक दिन पूर्व ही प्राथमिक स्कूलों में तीसरी से पांचवीं कक्षा के लिए खोले गए हैं, लेकिन अब विभाग ने ड्राप आउट बच्चों के सर्वे के आदेश जारी कर दिए हैं। उन्होंने कहा कि जिले के अधिकतर प्राथमिक स्कूलों में शिक्षकों के तीन चार पद ही स्वीकृत है और तीन कक्षाएं लग रही है। ऐसी स्थिति में सर्वे करना संभव नहीं है।

उन्होंने कहा कि आदेशों में ग्राम पंचायत, एसएमसी सदस्यों, स्वयंसेवकों व आंगनवाड़ी वर्करों की सहायता लेने की बात कही गई है, लेकिन इनका सहयोग नहीं मिल पा रहा है। इस मौके पर जिला प्रधान जयभगवान बडाला, प्रदेश कोषाध्यक्ष सतीश शर्मा, सुनील बास, नारनौंद खंड प्रधान जितेंद्र इंदौरा, हिसार खंड प्रथम के प्रधान राजकुमार सैनी उपस्थित थे।

Next Story