Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

गुरु तेग बहादुर जी के 400वां सालाना प्रकाशोत्सव की तैयारियां शुरू, मुख्यमंत्री मनोहर लाल को केंद्र सरकार ने सौंपी ये जिम्मेदारी

देश भर से 70 सदस्यीय केंद्रीय समिति गठित की गई है, जो प्रकाशोत्सव की तैयारियों को अमलीजामा पहनाएगी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समिति के अध्यक्ष होंगे, जबकि बाकी को सदस्यों के रूप में मनोनीत किया गया है। इस कमेटी में हरियाणा से मुख्यमंत्री मनोहर लाल व खेल एवं युवा मामले राज्य मंत्री संदीप सिंह को सदस्य मनोनीत किया गया है।

Chief Minister Manohar Lal
X

मुख्यमंत्री मनोहर लाल 

चंडीगढ़। मानवता के रक्षक के रूप में प्रख्यात सिखों के नौंवे गुरु तेग बहादुर जी का केंद्र सरकार की ओर से 400वां सालाना प्रकाशोत्सव 2021 में मनाया जाएगा। केंद्र सरकार की ओर से 400वें सलाना महोत्सव की तैयारियां शुरू कर दी गई हैं। देश भर से 70 सदस्यीय केंद्रीय समिति गठित की गई है, जो प्रकाशोत्सव की तैयारियों को अमलीजामा पहनाएगी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समिति के अध्यक्ष होंगे, जबकि बाकी को सदस्यों के रूप में मनोनीत किया गया है। इस कमेटी में हरियाणा से मुख्यमंत्री मनोहर लाल व खेल एवं युवा मामले राज्य मंत्री संदीप सिंह को सदस्य मनोनीत किया गया है। 70 सदस्यीय कमेटी में हरियाणा के खेल एवं युवा मामले राज्य मंत्री सरदार संदीप सिंह सिख समुदाय का प्रतिनिधित्व करेंगे। खेल राज्यमंत्री सरदार संदीप सिंह के कंधों पर हरियाणा में आयोजित होने वाले कार्यक्रमों का जिम्मा होगा।

केंद्र सरकार की ओर से महान योद्धा, विचारक, कवि व शिक्षक के रूप में प्रख्यात श्री गुरु तेगबहादुर का वर्ष 2021 में 400वां प्रकाशोत्सव मनाया जाएगा। शीतकालीन सत्र में देश के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की ओर से सदन में घोषणा की गई थी, जिस तरह से प्रथम गुरु नानक देव जी का 550वां प्रकाशोत्सव मनाया गया था, उसी तरह गुरु तेग बहादुर जी का भी 400वां प्रकाशोत्सव मनाया जाएगा। समिति को गुरु तेग बहादुर जी 400वीं वर्षगांठ मनाने को लेकर योजनाएं व कार्यक्रमों के लिये विस्तृत तिथियों पर फैसला करने के अलावा जयंती समारोहों को दिशानिर्देशित करने वाली नीतियों, कार्यक्रमों और निगरानी की मंजूरी देने का अधिकार होगा।

खेल राज्यमंत्री सरदार संदीप सिंह ने कहा कि गुरु तेग बहादुर जी द्वारा धर्म, सच्चाई और विश्वास की आजादी को कायम रखने के लिए दी महान कुर्बानी को हम सभी को याद रखना चाहिए और गुरु जी की शिक्षाओं को दुनिया के कोने-कोने तक पहुंचाना चाहिए। गुरु तेग बहादुर जी ने हिंदुओं व कश्मीरी पंडितों और गैर मुस्लिमों के जबरन इस्लाम धर्म परिवर्तन का विरोध किया और गुरु जी को 1675 में मुगल बादशाह के आदेश पर दिल्ली के चांदनी चैक में शहीद कर दिया गया था। ऐसे महान योद्धा के 400वां प्रकाशोत्सव मनाने के लिए केंद्र की ओर से गठित कमेटी में उन्हें जगह मिलना गौरव की बात है। गुरु जी के उपदेशों को फैलाने के लिए विभिन्न विभागों द्वारा साल भर करवाए जाने वाले कार्यक्रमों की सूची मुख्यमंत्री मनोहर लाल के साथ विचार-विमर्श करके तय की जाएगी ताकि साल भर चलने वाले कार्यक्रम सिख संगत के लिए यादगार के तौर पर समर्पित किए जा सकें।

Next Story