Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

नशा तस्करों के साथ मिलीभगत पर सिपाही गिरफ्तार, एएसआई की तलाश

सीआईए स्टाफ जींद ने 414 किलोग्राम चूरापोस्त के साथ गांव पालवां निवासी जगरूप को काबू किया था। नारकोटिक्स ब्यूरो ने तलाशी ली तो 398 किलोग्राम चूरापोस्त बरामद हुआ। मामले को खंगाला तो सामने आया कि सीआईए स्टाफ की टीम नशा तस्करों के साथ मिली हुई है।

14 किलो गांजे के साथ 4 गांजा तस्करों को पुलिस ने किया गिरफ्तार
X

गिरफ्तार (प्रतीकात्मक तस्वीर)

हरिभूमि न्यूज. जींद

नारकोटिक्स ब्यूरो ने बहुचर्चित 398 किलोग्राम चूरापोस्त को खुर्द बुर्द करने तथा तस्करों के साथ मिलीभगत करने के आरोपित सिपाही को गिरफ्तार कर अदालत में पेश किया। जहां से अदालत ने आरोपित को न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया। जबकि मुख्य आरोपित मामले का जांच अधिकारी एएसआई समेत कुछ अन्य अभी भी नारकोटिक्स ब्यूरो की पकड़ से बाहर है।

क्या था मामला

सीआईए स्टाफ जींद ने 18 दिसम्बर को उचाना के निकट 414 किलोग्राम चूरापोस्त के साथ गांव पालवां निवासी जगरूप को काबू किया था। इसी मामले में ट्रक चालक करनाल निवासी राकेश को भी ट्रक समेत काबू कर लिया था। मामले को लेकर नारकोटिक्स ब्यूरो को संदेह हुआ तो उन्होंने 24 दिसम्बर को उचाना थाना में खड़े ट्रक पर छापेमारी की तो उसमे 398 किलोग्राम चूरापोस्त बरामद हुआ। जब नारकोटिक्स ब्यूरो ने मामले को खंगाला तो सामने आया कि सीआईए स्टाफ की टीम नशा तस्करों के साथ मिली हुई है। जिसके चलते सीआईए स्टाफ की टीम ने ट्रक मालिक को छोड़ दिया ओर तथ्यों को भी छुपाया हुआ है।

नारकोटिक्स ब्यूरो की शिकायत पर 24 दिसम्बर को उचाना थाना में सीआईए स्टाफ के जांच अधिकारी एएसआई प्रवीन, जयबीर व टीम में शामिल रहे अन्य पुलिस कर्मियों व तस्करी में शामिल रहे लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया था। नारकोटिक्स ब्यूरो ने इस मामले में नशा तस्करी से जुड़े छह लोगों को गिरफ्तार कर लिया था। जांच में सीआईए में तैनात रहा सिपाही गांव गांव कापडो निवासी अनूप का नाम भी सामने आया। अनूप 18 दिसम्बर रात को सीआईए टीम के साथ 414 किलोग्राम चूरापोस्त की खेप पकड़ने में शामिल था जो मामला दर्ज होने के बाद से भूमिगत था। नारकोटिक्स ब्यूरो ने कार्रवाई करते हुए सिपाही अनूप को गिरफ्तार कर अदालत में पेश किया। जहां से अदालत ने आरोपित को न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया।

नारकोटिक्स ब्यूरो डीएसपी राजेश कुमार ने बताया कि आरोपित सिपाही सवा दो माह से भूमिगत था। जिसे गिरफ्तार कर पूछताछ के बाद जेल भेज दिया गया। उन्होंने बताया कि मुख्य आरोपित एएसआई प्रवीन व जयबीर की धर पकड़ के लिए उनके संभावित ठिकानों पर छापेमारी की जा रही है। अब तक इस मामले में सात आरोपितों को गिरफ्तार किया जा चुका है।

Next Story