Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

पुलिस ने दी लोगों को चेतावनी : लाॅकडाउन में तस्करों से न खरीदें शराब, जहरीली होने से जा सकती है जान

इस दौरान शराब के ठेके भी बंद किए गए हैं, जिसकी वजह से शराब तस्कर शराब बेचने के काम में जुट गए हैं। एसपी राहुल शर्मा ने सभी थाना प्रभारियों को तस्करों के खिलाफ सख्ती के आदेश दिए हैं। न केवल उनके क्षेत्रों में कैमरे लगवाए गए हैं बल्कि तस्करों का डाटा तैयार किया जा रहा है।

पुलिस ने दी लोगों को चेतावनी : लाॅकडाउन में तस्करों से न खरीदें शराब, जहरीली होने से जा सकती है जान
X

डीएसपी गोरखपाल राणा।

विजय अहलावत : रोहतक

कोरोना के चलते किए गए लॉकडाउन में शराब तस्कर मालामाल हो रहे हैं। वह दिन रात गली मोहल्लों में लाखों रुपये की अवैध शराब बेच रहे हैं। शराब दूसरे राज्यों से लाई जा रही है, इसलिए मिलावटी व जहरीली भी हो सकती है। तस्करों से शराब खरीद कर पीना मौत को न्यौता देना हो सकता है। पुलिस ने आमजन को सचेत किया है कि वह तस्करों से शराब न लें। पुलिस अपने तरीके से अभियान चला कर तस्करों पर लगाने का प्रयास भी कर रही है। लेकिन महामारी के माहौल में जहरीली शराब कभी भी मौत का तांड़व मचा सकती है। कोरोना के मामले बढ़ने के बाद दो मई को ही लॉकडाउन शुरू कर दिया गया था, जिसे पहले 12 मई, फिर 17 मई और अब 24 मई तक के लिए बढ़ा दिया गया। इस दौरान शराब के ठेके भी बंद किए गए हैं, जिसकी वजह से शराब तस्कर शराब बेचने के काम में जुट गए हैं। एसपी राहुल शर्मा ने सभी थाना प्रभारियों को तस्करों के खिलाफ सख्ती के आदेश दिए हैं। न केवल उनके क्षेत्रों में कैमरे लगवाए गए हैं बल्कि तस्करों का डाटा तैयार किया जा रहा है। इसके अलावा आमजन को भी तस्करों के प्रति जागरूक किया जा रहा है।

पंजाब, उतराखंड से आ रही शराब

सूत्रों की माने तो हरियाणा के कई जिलों में पंजाब और उतराखंड क्षेत्र से नकली शराब तस्करी की जा रही है। यह शराब जिलों में भी बेची जाती है और फिर अन्य राज्यों बिहार और गुजरात भेज दी जाती है। पुलिस ने विगत दिनों गांव काहनी के पास एक ढाबे से भारी तादाद में लाखों रुपये की सिप्रट बरामद की थी जिसे शराब बनाने में प्रयोग किया जाता था। स्प्रिट को नष्ट करवाते हुए ढाबा संचालक की जमीन जब्त करने के आदेश दिए गए थे। इसके अलावा कई जगह नकली लेबल और शराब बरामद हो चुकी है।

पहले भी हो चुकी है 47 की मौत

विगत वर्ष नवम्बर माह में प्रदेश के कई जिलों में जहरीली शराब पीने से करीब 47 लोगों की मौत हो गई थी। मामले ने काफी तूल पकड़ा था। इस दौरान सोनीपत में 36, पानीपत में 8 और फरीदाबाद में तीन लोगों की मौत हो गई थी। मृतकों के पेट में जहरीला रसायन बरामद हुआ था। मामले को लेकर सोनीपत समेत कई जगह लोगों ने शव सड़क पर रखकर जाम लगाए थे। मामले बढ़ने के बाद प्रदेश सरकार ने शराब फैक्ट्रियों पर कार्रवाई करने के आदेश दिए थे। मामले की जांच के लिए अधिकारियों की कमेटी नियुक्त की थी। जिसके बाद सोनीपत पुुलिस ने नकली शराब की फैक्ट्री से शराब बरामद की थी।

करवाई थी मुनादी : आबकारी एवं कराधान विभाग ने भी हालात को देखते हुए मुनादी करवाई थी। विभाग को जहां जहां शराब बिकने की आशंका थी वहां न केवल पोस्टर लगवाए गए बल्कि वाहनों पर लाउडस्पीकर लगा कर लोगों को जागरूक किया गया था। अब दोबारा से विभाग मुनादी करवाने के लिए तैयारी कर रहा है।

पुलिस अभियान चला रही : तस्करों से शराब खरीदना कभी भी महंगा साबित हो सकता है। तस्कर अधिक मुनाफे के लिए नकली और जहरीली शराब भी बेच सकते हैं। जिससे लोगों की जान जा सकती है। इसलिए ऐसी शराब से सचेत रहने की जरूरत है। पुलिस भी तस्करों के खिलाफ जोरशोर से अभियान चला रही है।- गोरखपाल राणा, डीएसपी हेडक्वाटर।

Next Story