Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

पुलिस ने गुरुग्राम में सरकारी जमीन बेचने वालों का किया पर्दाफाश

धोखाधड़ी का पता तब चला जब पीड़ितों में से एक गुप्ता कॉलोनी गुरुग्राम निवासी श्रीमती मूर्ति देवी ने इस संबंध में पुलिस में शिकायत दर्ज कराई।

हरियाणा पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) मनोज यादव
X
हरियाणा पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) मनोज यादव

पुलिस ने गुरुग्राम जिले में सरकार द्वारा 'अधिग्रहित' की हुई 2 एकड जमीन फर्जी तरीके से एक निजी कंपनी को बेचकर सरकारी खजाने को करोड़ों रुपये का नुकसान पहुंचाने वालों को पर्दाफाश करते हुए दो अधिवक्ताओं सहित तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया है।

डीजीपी हरियाणा, मनोज यादव ने बताया कि इस्लामपुर गांव की 2 एकड़ भूमि, जो 1993 में हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण (एचएसवीपी) द्वारा अधिग्रहित की गई थी, को जालसाजों ने फर्जी व जाली दस्तावेजों और गवाहों के आधार पर एक निजी कंपनी को दो करोड़ रुपये में बेच दिया था। जल्दी रुपये बनाने के चक्कर में गिरफ्तार मास्टरमाइंड गाँव झाड़सा निवासी रोहित ठाकरान और गाँव इस्लामपुर के अजय चैधरी ने मिलीभगत करके मूर्ति देवी, लक्ष्मी देवी और बाला देवी के नाम पर अन्य औरतें खडी करके उनकी 2 एकड़ पैतृक संपत्ति फर्जी गवाहों को दिखाकर अजय के नाम पर हस्तांतरित करवा दी।

मामले में सम्पति की असली मालिकों की पहचान करने वाले गवाह चमन लाल अरोड़ा एडवोकेट और सुभाष चंद अरोड़ा एडवोकेट को भी गिरफ्तार किया जा चुका है। धोखाधड़ी का पता तब चला जब पीड़ितों में से एक गुप्ता कॉलोनी गुरुग्राम निवासी श्रीमती मूर्ति देवी ने इस संबंध में पुलिस में शिकायत दर्ज कराई। शिकायत के आधार पर कार्रवाई करते हुए स्टेट क्राइम ब्रांच (गुरुग्राम यूनिट) ने 18.01.2021 को मास्टरमाइंड रोहित ठाकरान और 21.01.2021 को एडवोकेट चमन लाल अरोड़ा और एडवोकेट सुभाष चंद अरोड़ा को गिरफतार कर लिया।

मास्टरमाइंड और साथी संगीन मामलों के हैं आरोपी

जांच में खुलासा हुआ कि मास्टरमाइंड रोहित ठाकरान ने निजी तौर पर पटवारी का काम सीखा था और वह अधिग्रहित जमीन के बारे में पूरी तरह से वाकिफ था। रोहित के खाते में अजय चैधरी द्वारा 2 करोड़ में से 29 लाख रूपये ट्रांसफर करने पाए गए हैं। अजय चैधरी ने जिन खातों में पैसे प्राप्त किए हैं उनमें अजय चैधरी द्वारा बैंक में खाता खुलवाते समय अलग-अलग नम्बर के पेन कार्ड प्रयोग करने पाए गए हैं। आरोपी रोहित ठाकरान लड़ाई-झगड़े, शराब तस्करी के मामलों में लिप्त रहा है और उसका सहयोगी आरोपी अजय चैधरी वर्ष 2006 में राजस्थान पुलिस के कांस्टेबल को गोली मारकर हत्या करने में शामिल रहा है।

Next Story