Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

एक्शन : प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने नगर परिषद व एनएचएआई को दिए नोटिस

बहादुरगढ़ में एक्यूआई (AQI) बेहद खराब श्रेणी, तो पीएम-2.5 का स्तर और पीएम-10 का लेवल भी खतरनाक स्तर पर पहुंच गया है। सुबह में दृश्यता बेहद कम होने लगती है।

एक्शन : प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने नगर परिषद व एनएचएआई को दिए नोटिस
X

बहादुरगढ़। शहर के बाईपास पर कूड़े में लगाई गई आग से निकलता धुआं। 

हरिभूमि न्यूज : बहादुरगढ़

फिजा में बढ़ती ठंड के साथ शहर की आबोहवा में घुल रहे जहर को नियंत्रित करने के उद्देश्य से प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (Pollution Control Board) ने राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण तथा नगर परिषद को नोटिस (Notice) जारी किए हैं। दरअसल, शहर में उद्योगों-वाहनों से निकलने वाला धुआं, निर्माण स्थलों-सड़कों से उड़ने वाली धूल और जलाए जा रहे कूड़े से निकलने वाला जहरीला धुआं हवा में घुलकर नगरवासियों को बीमार बना रहा है। इससे सुबह खतरनाक और शाम को हालात बेहद खराब हो गए हैं।

एक्यूआई (एयर क्वालिटी इंडेक्स) बेहद खराब श्रेणी, तो पीएम-2.5 का स्तर और पीएम-10 का लेवल भी खतरनाक स्तर पर पहुंच गया है। सुबह में दृश्यता बेहद कम होने लगती है। प्रदूषण के आगे अधिकारियों की संयुक्त कार्ययोजना बेदम दिख रही है। सोमवार को एक्यूआई अधिकतम 229 दर्ज हुआ, जबकि रविवार को यह 369 तक पहुंच गया था। वायु प्रदूषण बढ़ने से अस्पतालों में सांस व अस्थमा रोगियों की संख्या बढ़़ने लगी है। ओपीडी में इनकी संख्या में तेजी से उछाल आया है। सर्वाधिक मरीजों की भीड़ फिजीशियन, ईएनटी और नेत्र रोग विशेषज्ञ के कक्ष के बाहर दिख रही है। बढ़ते प्रदूषण की रोकथाम को प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड तमाम प्रयास कर रहा है। प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने पिछले सप्ताह एनएचएआई और नगर परिषद को कारण बताओ नोटिस जारी किया था कि क्यों ना उन पर 10-10 लाख रुपए जुर्माना लगा दिया जाए। एनएचएआई व नप ने नोटिस का जवाब तो अब तक नहीं दिया है, लेकिन शिकायतों का निपटान तेज कर दिया है।

बता दें कि समीर एप के माध्यम अब तक प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड को 83 शिकायतें मिल चुकी हैं। अधिकांश शिकायतें एचएसआईआईडीसी और नगर परिषद से संबंधित हैं। शहर के बाईपास पर पीएम (पर्टिकुलर मैटर) अधिक होने की समस्या को लेकर एनएचएआई ने धूल हटाने के लिए 35 लोगों की टीम भी लगा दी है। कूड़ा जलाने की विभिन्न शिकायतों का नगर परिषद द्वारा संज्ञान लिया जा रहा है। दोनों विभागों द्वारा की जा रही कम्प्लाइंस पर पीसीबी द्वारा नजर रखी जा रही है। चूंकि आजकल हवा में धूल कण व प्रदूषण की मात्रा बढ़ने से लोगों को परेशानी होने लगी है। नाक और आंखों में जलन के साथ गले में खराश हो रही है।

शिकायतों का निस्तारण करवाया जा रहा

प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के असिस्टेंट एनवायरमेंटल इंजीनियर अमित दहिया के अनुसार हवा की गुणवत्ता सुधारने के लिए विभागीय अधिकारी प्रयासरत है। संयुक्त कार्ययोजना बनाकर नियम तोड़ने वालों के खिलाफ कार्रवाई हो रही है। समीर एप पर मिली शिकायतों का निस्तारण करवाया जा रहा है। शिकायतों के आधार पर ही नगर परिषद व एनएचएआई को भी 10-10 लाख रुपए का जुर्माना लगाने की चेतावनी देते हुए शोकॉज नोटिस जारी किए थे।

Next Story