Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

पानीपत नगर निगम के सुपरवाइजर की गोली और चाकू मारकर हत्या

पुलिस की जांच में शिवकुमार की हत्या में दो सगे भाइयों समेत आठ लोगों का नाम सामने आया है। हत्यारोपियों में से तीन की पहचान हो चुकी है।

वाराणसी में भाजपा कार्यकर्ता की पीट-पीटकर हत्या, जबरन गुलाल लगाने से रोकने पर हुआ था विवाद शुरू
X

प्रतीकात्मक तस्वीर।

पानीपत। पानीपत के धूप सिंह नगर में शुक्रवार को नगर निगम के सुपरवाइजर की गोली व चाकू मार कर हत्या कर दी गई। वहीं सीवर डालने को लेकर सुपरवाइजर का 17 मार्च को धूप सिंह नगर निवासियों के साथ विवाद हुआ था। वरदात को अंजाम देने के बाद हमलावर अपनी स्कूटी मौके पर ही छोड़ गया। पुलिस ने मौके से कारतूस के दो खोखे और स्कूटी बरामद कर इस मामले की जांच शुरू कर दी है।

जानकारी के अनुसार मूलरूप से कैथल के सीतामाई निवासी शिवकुमार वर्तमान में करनाल के नानकपुर में परिवार के साथ रहता था। पानीपत में अमरुत योजना के तहत नगर निगम की ओर से सीवर डालने का काम चल रहा है। इसका ठेका हैदराबाद की भूमि इंफ्रास्ट्रक्चर कंपनी ने ले रखा है, शिव कुमार इस कंपनी में सुपरवाइजर था। वहीं शुक्रवार को काम तो बंद था और शिव कुमार अपने साथी के साथ किए गए काम की माप में लगा था। करीब 12 बजे तीन दोपहिया वाहनों पर सवार होकर हमलावर शिवकुमार के पास पहुंचे और उस पर फायरिंग की और चाकू से प्रहार किया। गोलियां व चाकू लगने से शिव कुमार गंभीर रूप से घायल हो गया। लोग शिवकुमार को सिविल अस्पताल ले गए, जहां डॉक्टरों ने उसे पीजीआई रेफर कर दिया। साथियों ने शिव कुमार को पानीपत के निजी अस्पताल में भर्ती करवाया, जहां शिव कुमार की मौत हो गई।

जबकि मौत से पहले बनाए गए वीडियो में शिव कुमार ने अपने ऊपर हुए हमले में भास्कर के पुत्रों का नाम लिया है। वहीं पुलिस की जांच में शिवकुमार की हत्या में दो सगे भाइयों समेत आठ लोगों का नाम सामने आया है। हत्यारोपियों में से तीन की पहचान हो चुकी है। दूसरी ओर, धूप सिंह नगर में सीवर बिछाने के दौरान 17 मार्च को शिवकुमार का स्थानीय निवासियों के साथ मारपीट हुई थी, शिव कुमार के सिर में चोट लगी थी और उसके खिलाफ थाना किला पुलिस ने केस दर्ज कर उसे गिरफ्तार भी किया था। शिवकुमार जेल से जमानत पर रिहा हुआ था। शिवकुमार अपने पिता का इकलौता पुत्र था और उसकी तीन बेटियां व एक बेटा है। पुलिस ने शिव कुमार का शव पोस्टमार्टम के लिए पानीपत के सिविल अस्पताल भिजवा कर मामले की जांच शुरू कर दी है।

Next Story