Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सोनीपत जिले में वायरल बुखार का प्रकोप, अस्पतालों में बढ़े मरीज

हर घर में वायरल के मरीज सामने आ रहे हैं। विभाग मलेरिया, डेंगू बीमारी से बचने के लिए घर-घर जाकर जांच कर रहा हैं। जबकि अस्पताल में वायरल बुखार के मरीजों की संख्या कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। नागरिक अस्पताल में रजिस्ट्रेशन काउंटर व ओपीडी के बाहर काफी भीड़ देखी गई।

सोनीपत जिले में वायरल बुखार का प्रकोप, अस्पतालों में बढ़े मरीज
X

हरिभूमि न्यूज : सोनीपत

जिला वायरल बुखार की चपेट में आया हुआ हैं। हर घर में वायरल के मरीज सामने आ रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग मलेरिया, डेंगू बीमारी से बचने के लिए घर-घर जाकर जांच कर रहा हैं। जबकि अस्पताल में वायरल बुखार के मरीजों की संख्या कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। नागरिक अस्पताल में रजिस्ट्रेशन काउंटर व ओपीडी के बाहर काफी भीड़ देखी गई। हर कोई जुखाम, खांसी व बुखार से पीडि़त मिला हैं। रजिस्ट्रेशन काउंटर के बाहर मरीजों की भीड़ अस्पताल प्रबंधन की लापरवाही भी हैं। रजिस्ट्रेशन काउंटर कम होने के कारण मरीजों की स्लिप नहीं मिल पा रही हैं। जिसका खामियाजा अस्पताल में उपचार करवाने वालों को भुगतने पर मजबूर होना पड़ रहा हैं।

नागरिक अस्पताल में उपचार करवाने वाले मरीजों का लाइन पर लाइनें मिल रही हैं। उपचार के नाम पर उन्हें कड़ी मशक्त करनी पड़ रही हैं। रजिस्ट्रेशन कांउटर के बाद ओपीडी के बाहर लाइन में लगना होता हैं। अगर चिकित्सक ने टेस्ट करवाने के लिए पर्ची थमा दी तो उसके बार सैंपल देने के लिए लैब के बाहर लाइन में लगने पर मजबूर होना पड़ता हैं। उसके बाद दवा लेने के लिए डिस्पेंसरी के सामने लाइन में लगने पर मजबूर होना पड़ता हैं। रजिस्ट्रेशन काउंटर पर कंप्यूटर ऑप्रेटर की कमी होने के चलते मरीजों का लंबी लाइनों में खड़ा होने पर मजबूर होना पड़ रहा हैं। प्रबंधन की लापरवाही का खामियाजा लाइनों में लग मरीज को भुगतना पड़ता हैं।

बच्चों पर विशेष ध्यान देना जरूरी

वायरल बुखार कम होने का नाम नहीं ले रहा हैं। वायरल बुखार से बचने के लिए कीटाणु नाशक से हाथ-बार-बार धोएं। भीड़-भाड़ से दूर रहें और डिटॉल मल्टी यूज वाइप हर वक्त अपने साथ रखें। बिना हाथ धोए अपना चेहरा, मुंह और नाक छूने से बचें। दूसरी महत्त्वपूर्ण बात ये है कि अगर आपको वायरल बुखार हुआ है तो जब भी खांसी, जम्हाई या छींक आए अपना मुंह रुमाल से ढंक लें। बच्चों का इस मौसम के दौरान विशेष ध्यान रखने की आवश्यकता हैं। बुखार, खांसी, जुकाम होने पर चिकित्सक की सलाह अवश्य लें। -डॉ. अलकिृता गैरा, बाल रोग विशेषज्ञ

ओपीडी में मरीजों की संख्या बढ़ी हैं। भीड़ होने के साथ ही स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध करवाने के प्रयास तेज कर दिए हैं। रजिस्ट्रेशन कांउटर पर ऑप्रेटर की कमी को जल्द पूरा किया जाएगा। अस्पताल में उपचार करवाने वालों की सुविधा के लिए हर संभव कदम प्रबंधन की तरफ से समय-समय पर उठाएं जाते हैं। ताकि मरीजों को बेहतर चिकित्सक सुविधा मिल सके। -डा. जयभगवान जाटान, प्रधान चिकित्सक अधिकारी नागरिक अस्पताल।

Next Story