Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

हिसार में भाजपा के कार्यक्रम का विरोध, पटेल नगर करना पड़ा सील, किसान लिए हिरासत में

अम्बेडकर जयंती समारोह में थे 300 लोग, बाहर पुलिस व किसानों की संख्या थी 700 पार, कार्यक्रम के दौरान किसान-पुलिस रहे आमने -सामने।

हिसार में भाजपा के कार्यक्रम का विरोध, पटेल नगर करना पड़ा सील, किसान लिए हिरासत में
X

 पटेल नगर में अंबेडकर जयंती समारोह में प्रदर्शकारी किसानों को जाने से रोकते पुलिस कर्मचारी।

हिसार। पटेल नगर कम्युनिटी सेंटर के समीप मैदान मेें भाजपा के जिलास्तरीय अम्बेडकर जयंती समारोह के आयोजन से पहले किसानों तथा पुलिस के बीच हाइवोल्टेज ड्रामा हुआ। रविवार को जिलास्तरीय अम्बेडकर जयंती समारोह में भाजपा नेताओं के शामिल होने की पूर्व सूचना के बीच सैकड़ों किसान कार्यक्रमस्थल की ओर बढ़ने लगे। पहले से मौजूद पुलिस कर्मचारियों ने कार्यक्रमस्थल से पहले ही बैरियर लगाकर प्रदर्शनकारी किसानों को रोकने का प्रयास किया।

मामूली झड़प के बीच कार्यक्रमस्थल से कुछ दूरी पर पुलिस ने 20 से ज्यादा किसानों को हिरासत में ले लिया। हिरासत में लिए गए लोगों में महिलाओं तथा लड़कियां भी रहीं। पुलिस ने उन्हें बस में बैठाकर कार्यक्रमस्थल से दूर ले गई और बाद में उन्हें छोड़ दिया। कार्यक्रम में डिप्टी स्पीकर रणबीर गंगवा, कृषि मंत्री जेपी दलाल, राज्यसभा सांसद डीपी वत्स, मेयर गौतम सरदाना समेत अनेक भाजपा नेता पहुंचे थे। कार्यक्रम में करीब 300 लोगों की भीड़ थी जबकि कार्यक्रमस्थल के बाहर करीब 500 सौ किसान तथा 200 पुलिस कर्मचारी मौजूद रहे। प्रदर्शकारियों में महिलाओं की भी खासी संख्या रही।

इससे पहले पुलिस को चकमा देने के लिए किसान सीधे कार्यक्रमस्थल की ओर आने की बजाए गलियों से रास्ते पहुंचे। किसानों के पहुंचने की सूचना पर एसपी बलवान सिंह ने मोर्चा संभाला। उनकी अगुवाई में पुलिस ने पूरे पटेल नगर को सील कर दिया। यहां तक कि कार्यक्रम में शामिल होने आए लोगों को भी पुलिस ने कार्यक्रमस्थल में जाने नहीं दिया। अनेक किसानों को हिरासत में लिए जाने पर कार्यक्रम के दौरान ही अधिकतर किसान तितर बितर हो गए।

इस बीच कार्यक्रम में जाकर विरोध करने में नाकाम रहने पर आवेशित करीब 50 किसानों ने भाजपा का झंडा फूंका और सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। गौरतलब है कि बीते कुछ महीनों से किसान आंदोलनकारियों ने नए कृषि बिलों के विरोध में प्रदेशभर में भाजपा नेताओं के सार्वजनिक कार्यक्रमों में जाकर विरोध जताने की घोषणा की हुई है। पूर्व में भी हिसार में कई कार्यक्रमों में प्रदर्शकारी किसान सरकार के कार्यक्रमों में विरोध जताने की कोशिश कर चुके हैं।


Next Story