Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

ओपी धनखड़ बोले, बरोदा उप चुनाव से कुर्सी हिलेगी तो पूर्व सीएम भूपेंद्र हुड‍्डा की हिलेगी

बीजेपी ओपी धनखड़ बोले, अब बरोदा हलके के पास अच्छा मौका है कि वे योगेश्वर दत्त (Yogeshwar Dutt) को जितवाकर सत्ता के भागीदार बने। अगले चार साल तक खजाने की चॉबी चंडीगढ़ (Chandigarh) और दिल्ली की भाजपा के पास है। जो प्रोजेक्ट है उन पर भाजपा ही पैसा खर्च करेगी।

ओपी धनखड़ बोले, बरोदा उप चुनाव से कुर्सी हिलेगी तो पूर्व सीएम भूपेंद्र हुड‍्डा की हिलेगी
X

 पत्रकारों से बातचीत करते हुए भाजपा प्रदेशाध्यक्ष ओमप्रकाश धनखड़। 

हरिभूमि न्यूज. जींद। भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष ओमप्रकाश धनखड़ ने कहा कि बरोदा उप चुनाव से कुर्सी हिलेगी तो पूर्व सीएम भूपेंद्र हुड्डा (Bhupendra Hooda) की हिलेगी। जब दस साल तक भूपेंद्र हुड्डा के नेतृत्व में कांग्रेस की सरकार रही तब उन्होंने बरोदा हलके के लिए कुछ नहीं किया। अगर असर पड़ेगा तो बरोदा हलके के विकास पर पड़ेगा। लोगों में कांग्रेस के प्रति नाराजगी है, लोग विकास चाहते हैं, लोग अब समझने भी लगे हैं कि विकास कहां से हो सकता है।

भाजपा ने साफ छवि और ख्याति प्राप्त युवा को चुनाव मैदान में उतारा है। ओमप्रकाश धनखड़ (Om Prakash Dhankar) रविवार को हर किसान सम्मेलन के बाद पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। उन्होंने कहा कि भूपेंद्र हुड्डा के हिसाब से बरौदा हलके की टिकट नहीं मिली, अब उनकी पार्टी में कितनी चल रही है वह सभी के सामने है। जिस समय भूपेंद्र हुड्डा सत्ता में थे, किलोई की सड़कें काफी चौड़ी बनी जब हलका बरोदा में आई तो उन सड़कों को भीड़ा कर दिया गया।

अब बरोदा हलके के पास अच्छा मौका है कि वे योगेश्वर दत्त को जितवाकर सत्ता के भागीदार बने। अगले चार साल तक खजाने की चॉबी चंडीगढ़ और दिल्ली की भाजपा के पास है। जो प्रोजेक्ट है उन पर भाजपा ही पैसा खर्च करेगी। जिसके चलते लोग भाजपा को पसंद कर रहे हैं। जो अब चुनाव में आए हैं वे केवल बाते कर रहे हैं, उनके पास ऐसा कुछ नहीं है कि वे बरौदा का विकास करवा सकें।

जेजेपी विधायक जोगीराम सिहाग के बारे में उन्होंने कहा कि उन्हें तीन कृषि अध्यादेशों के बारे में पूरी जानकारी नहीं है। तीन कृषि अध्यादेश खुशहाली लाने वाले हैं। एमएसपी लगातार बढ़ता रहेगा, मंडियों पर कोई असर नहीं होगा, तीन अध्यादेश किसानों के हक में है। जो किसान मंडी से बाहर अपनी फसल बेचना चाहता है वह बेच सकता है। नए अध्यादेशों में दोनों रास्ते साथ-साथ चल रहे हैं।



Next Story