Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

अब चंद मिनट में ही जान जाएंगे कोरोना है या नहीं

चार महीने की मेहनत के बाद आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस सिस्टम (मॉडल) तैयार है। इसको लेकर अस्ट्रेलिया से पेटेंट करवाया गया है। इस मॉडल के तैयार होने के बाद किसी भी व्यक्ति की जांच कर यह पता किया जा सकता है कि उसे कोरोना है या नहीं है। यह विश्व में पहली बार है, जब इतनी जल्द कोरोना का पता लग सकता है।

अब चंद मिनट में ही जान जाएंगे कोरोना है या नहीं
X

 जानकारी देते हुए डा. दीवान शेर।

हरिभूमि न्यूज : जींद

जींद के शोध सागर संस्थान के संचालक डा. दीवान शेर ने टैक्नीकल और मेडिकल फील्ड की मदद से आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस सिस्टम से दो-तीन सैकेंड में कोरोना जांच करने का दावा किया है। जींद में आयोजित पत्रकार वार्ता में डा. दीवान शेर ने कहा कि मई महीने में उन्होंने कोरोना की जांच की खातिर मशीन पर शोध शुरू किया था।

चार महीने की मेहनत के बाद आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस सिस्टम (मॉडल) तैयार है। इसको लेकर अस्ट्रेलिया से पेटेंट करवाया गया है। इस मॉडल के तैयार होने के बाद किसी भी व्यक्ति की जांच कर यह पता किया जा सकता है कि उसे कोरोना है या नहीं है। यह विश्व में पहली बार है, जब इतनी जल्द कोरोना का पता लग सकता है। डा. दीवान शेर ने बताया कि लाकडाउन में उनके मन में आया कि क्यों ने कोरोना जांच की खातिर कुछ किया जाए।

शुरूआती दौरान में कोरोना टेस्ट की कीमत 4800 रुपये थी, ऐसे में जींद जैसे शहर में यह टेस्ट करवाना आम आदमी की पहुंच से काफी दूर थी। मॉडल बनाने में मेडिकल और टेक्निकल फील्ड का विशेष सहयोग रहा। 10-12 लोगों ने मॉडल का डिजाइन बनाया। काम शुरू हुआ तो इस दिशा में रिजल्ट भी अच्छे आए। अब तक 100 लोगों की जांच की गई। जांच के बाद 90 से ऊपर लोगों का मॉडल ने सही डाटा दिया कि किन-किन लोगों को कोरोना हुआ है और किन-किन को नहीं।

उन्होंने कहा कि मॉडल के जरिये व्यक्ति के तापमान, हार्ट बीट, उसकी सांस की गति, सांस की आवाज सहित कई पैरामीटर पर जांच की जाती है। इसके बाद यह मॉडल चंद मिनटों की जांच के बता देती है कि इस व्यक्ति को कोरोना है या नहीं। इससे संक्रमण को फैलने से रोक लगाई जा सकती है। इस टीम में वो स्वयं, आयुष गोयल, आईआईटीएम ग्रुप मुरथल के कैंपस डायरेक्टर प्रविंद्र बांगर शामिल रहे। नागरिक अस्पताल के डिप्टी एमएस डा. राजेश भोला ने कहा कि आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस सिस्टम से यदि जांच होती है तो इसका सीधा लाभ आम लोगों को होगा।

Next Story