Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

फसल पंजीकरण के लिए अब जरूरी होगा यह पहचान पत्र

जो किसान मेरी फसल-मेरा ब्यौरा पोर्टल पर अपनी फसलों का पंजीकरण नहीं करवाते हैं, ऐसे किसानों को भविष्य में फसल बेचने में दिक्कत आ सकती है।

फसल पंजीकरण के लिए अब जरूरी होगा यह पहचान पत्र
X
गेहूं खरीद ( फाइल फोटो)

हरिभूमि न्यूज. जींद

किसानों की रबी सीजन की फसलें पक कर तैयार हो रही है। ऐसे में किसानों को फसल बेचने में कोई दिक्कत न हो इसके लिए सभी किसान अपनी फसलों का ब्यौरा मेरी फसल-मेरा ब्यौरा पोर्टल पर दर्ज करवा लें। किसान आसानी से अपनी फसलों का ब्यौरा अपने नजदीकी कॉमन सर्विस सैंटर में जाकर दर्ज करवा सकते हैं। फसलों को मंडियों में सहजता से बेचने के लिए परिवार पहचान पत्र बनवाना भी आवश्यक है। जिन लोगों ने अपने परिवार पहचान-पत्र नही बनवाए हैं, वे तुरंत बनवाना सुनिश्चित करें। जो किसान मेरी फसल-मेरा ब्यौरा पोर्टल पर अपनी फसलों का पंजीकरण नहीं करवाते हैं, ऐसे किसानों को भविष्य में फसल बेचने में दिक्कत आ सकती है, क्योंकि पोर्टल पर फसलों का पंजीकरण करवाना सरकार द्वारा जरूरी किया गया है।

कहां होगा रजिस्ट्रेशन

परिवार पहचान पत्र को मेरी फसल मेरा ब्यौरा के लिए भी इसे अनिवार्य किया गया है। किसान अपनी फसलों का रजिस्ट्रेशन फसल डॉट हरियाणा डॉट जीओवी डॉट इन पोर्टल पर कर सकते हैं। पंजीकरण के लिए आधार कार्ड और मोबाइल नंबर जरूरी है। फसल से संबंधित जानकारी रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर एसएमएस से मिलेगी। जमीन की जानकारी के लिए रेवेन्यू रिकॉर्ड के नकल की कॉपी, खसरा नंबर देख कर भरना होगा। फसल के नाम, किस्म और बुआई का समय मेरी फसल-मेरा ब्यौरा पोर्टल पर भरना होगा। बैंक पासबुक की कॉपी भी लगानी होगी, ताकि किसी भी स्कीम का लाभ सीधे अकाउंट में भेजा जा सके।

इस पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन के तीन फायदे

खाद, बीज, लोन एवं कृषि उपकरणों की सब्सिडी समय पर उपलब्ध होगी। फसल की बिजाई-कटाई का समय और मंडी संबंधित जानकारियां मिलेंगी। प्राकृतिक आपदा के बाद सही समय पर सहायता मिल सकेगी, क्योंकि आपकी फसलों का ब्यौरा पहले से ही इस पोर्टल पर दर्ज होगा।

किसी भी कॉमन सर्विस पर करवा सकते हैं पंजीकरण : एसडीएम

एसडीएम राजेश कुमार ने बताया कि किसान अपनी सुविधा के अनुरूप किसी भी कॉमन सर्विस सैंटर, मार्केट कमेटी के कार्यालय, पटवारियों के माध्यम से फसलों का ब्यौरा पोर्टल पर दर्ज करवा सक ते हैं। मेरी फसल-मेरा ब्यौरा योजना के तहत जुड़े सभी कर्मियों को निर्देश दिए हैं कि वे फसलों का पंजीकरण करवाने वाले किसानों को पंजीकरण करवाते समय कोई दिक्कत न आने दें उनका पूरा सहयोग करें। रबी की फसलों के पंजीकरण के लिए 16 जनवरी से फसल पंजीकरण का कार्य शुरू हो चुका है।

Next Story