Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

अब हरियाणा सरकार से आढ़ती नाराज, मांगें नहीं मानने पर गेहूं न तोलने की चेतावनी

अपनी मांगों लेकर आढ़ती ऐसोसिएशन का एक प्रतिनिधि मंडल सीएम मनोहर लाल से चंडीगढ़ में मुलाकात करेगा। वहीं सभी ने एकमत से कहा कि सरकार आढ़तियों की मांगें नहीं मानती तो वो काम नहीं करेंगे।

अब हरियाणा सरकार से आढ़ती नाराज, मांगें नहीं मानने पर गेहूं न तोलने की चेतावनी
X

हरिभूमि न्यूज करनाल

अपनी मांगों को लेकर प्रदेश भर के आढ़ती एसोसिएशन के प्रधान करनाल में इक्कठे हुए। सभी ने एकमत से कहा कि सरकार आढ़तियों की मांगें नहीं मानती तो वो काम नहीं करेंगे। मंडी में गेहूं आएगा, किसान आएगा पर आढ़तियों की तरफ से गेहूं की तोल का काम नहीं होगा।

बता दे कि कभी किसान नाराज हैं तो कभी आढ़ती , जैसे ही किसी फसल का सीजन आता है। कई मुद्दों पर सरकार के साथ किसानों और आढ़तियों का मन मुटाव शुरू हो जाता है। पहले किसानों की मैसेज को लेकर समस्या थी, जिसका समाधान सरकार ने किया और अब आढ़ती चेतावनी दे रहे हैं कि उनकी मांगें नहीं मानी गई तो फिर वो गेहूं का तोल नहीँ करेंगे।

आढ़तियों की तरफ से फैसला लिया गया कि अगर सरकार उनकी पिछली पेमेंट जो धान और गेहूं दोनों की बकाया है वो क्लियर नहीं करती , साथ ही साथ जो सरकार सीधा किसान के खाते में पैसे डालने की बात कर रही है, अगर उसको ऑप्शनल नहीं किया जाता मतलब जो किसान अपने खाते में चाहता है उसे अपने खाते में और जो आढ़ती के माध्यम से चाहता है वो आढ़ती के एकाउंट में, वहीं तीसरी मांग की सरकार बारदाने पर मार्का लगाने को कह रही , पर आढ़ती मार्का, लगाना नहीं चाहते ।

अगर इन मांगों पर आढ़तियों को सरकार संतुष्ट नहीं करती तो आढ़ती मंडी में गेहूं का तोल नहीं करेंगे। बात स्पष्ट है गेहूं मंडी में आएगी, किसान भी आएगा, मंडी में आढ़ती की दुकान के बाहर उतरेगी भी पर आढ़ती उसका तोल नहीं करवाएगा। यानी आढ़ती काम नहीं करेगा, सरकार गेंहू खरीदना चाहती है तो खुद तोल करवाए और खरीद करे। इसको लेकर आढ़ती ऐसोसिएशन का एक प्रतिनिधि मंडल सीएम मनोहर लाल से चंडीगढ़ में मुलाकात करेगा।

Next Story