Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

अब हरियाणा के एमएसएमई उत्पादों को ग्लोबल मार्केट मिलेगा

यह बात उपमुख्यमंत्री ने हरियाणा के एमएसएमई (सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम) विभाग द्वारा उनकी मौजूदगी में तीन ई-कॉमर्स कंपनियों के साथ हुए एमओयू के बाद कही।

Dushyant Chautala
X
उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला

हरियाणा के उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने कहा कि अब हरियाणा के एमएसएमई उत्पादों को ग्लोबल मार्केट मिलेगा, साथ ही राज्य के पारम्परिक हथकरघा उत्पाद तैयार करने वाले कारीगरों को भी अपने हूनर की वाजिब कीमत मिलेगी।

यह बात उपमुख्यमंत्री ने हरियाणा के एमएसएमई (सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम) विभाग द्वारा उनकी मौजूदगी में तीन ई-कॉमर्स कंपनियों के साथ हुए एमओयू के बाद कही। इससे पूर्व, उपमुख्यमंत्री के कार्यालय में ई-कॉमर्स के क्षेत्र में जानी-मानी कंपनी 'ई.बे' , 'पॉवर-टू-एसएमई', 'ट्रेड इंडिया डॉट कॉम' के साथ एमओयू पर हस्ताक्षर एमएसएमई के महानिदेशक विकास गुप्ता व कंपनियों के प्रतिनिधियों ने किए। इस अवसर पर उद्योग एवं वाणिज्य विभाग के प्रधान सचिव विजयेंद्र कुमार भी उपस्थित थे।

निर्यात में भी बढ़ोतरी मिलेगी

डिप्टी सीएम ने कहा कि 'आत्मनिर्भर भारत' की दिशा में आज एमएसएमई विभाग द्वारा राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर की तीन ई-कॉमर्स कंपनियों के साथ समझौते पर हस्ताक्षर होने से प्रदेश के सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योगों के अलावा हूनरमंद कारीगरों को भी बढ़ावा मिलेगा। राज्य के इन उद्योगों के उत्पाद अब विश्व के किसी भी कोने में खरीदे जा सकेंगे, इससे हमारे देश के निर्यात में भी बढ़ोतरी मिलेगी। उन्होंने कहा राज्य सरकार का मुख्य फोकस प्रदेश में उद्यमशीलता को बढ़ावा देने, समावेशी और संतुलित क्षेत्रीय विकास को बढ़ाने पर है। राज्य के दूरदराज के हिस्सों में रहने वाले पारंपरिक कारीगरों की पहुंच अब सीमित नहीं रहेगी, बल्कि बिक्री बढ़ने से उनको अंतरराष्ट्रीय बाजार से अच्छी आमदनी भी होगी। राज्य सरकार के इन एमओयू से नए उद्यमियों के लिए भी अभूतपूर्व अवसर पैदा होंगे।

एमएसएमई अर्थव्यवस्था की रीढ़

हरियाणा के उद्योग एवं वाणिज्य विभाग के प्रधान सचिव विजयेंद्र कुमार ने इस अवसर पर बताया कि आजकल एमएसएमई किसी अर्थव्यवस्था की रीढ़ होते जा रहे हैं। राज्य सरकार प्रदेश की 2 लाख से अधिक एमएसएमई के वर्तमान पारिस्थितिकी तंत्र को और अधिक मजबूत बनाने के लिए प्रतिबद्ध है। वर्तमान प्रतिस्पर्धात्मक युग में एमएसएमई के लिए यह महत्वपूर्ण है कि वह नए और रणनीतिक तरीके अपनाए। ई-कॉमर्स में एमएसएमई को नई मार्केट तक पहुंचाने की क्षमता है।

उद्यमियों की हरसंभव सहायता

एमएसएमई विभाग के महानिदेशक विकास गुप्ता ने कहा कि एमएसएमई निदेशालय अपने उद्यमियों की हरसंभव सहायता कर रहा है ताकि उद्यमी अपने उद्यम से जहां अच्छी आमदनी प्राप्त कर सकें वहीं अधिक से अधिक युवाओं को रोजगार हासिल हो।

Next Story