Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

निकाय चुनाव रिजल्ट : रेवाड़ी में कई दिग्गज पार्षदों की गई कुर्सी

दिग्गजों को हराने में ऐसे प्रत्यार्शियों की संख्या ज्यादा रही जो पहली बार चुनाव लड़े। इनमें अधिकांश निर्दलीय ही शामिल है। हालांकि दो पार्षद इस आंधी में खुद को सेफ रख पाए।

निकाय चुनाव रिजल्ट : रेवाड़ी में कई दिग्गज पार्षदों की गई कुर्सी
X

मिठाई खिलाते पूर्व मंत्री बिक्रम सिंह यादव।

हरिभूमि न्यूज. रेवाड़ी

बुधवार को आए निकाय चुनाव के परिणामों ने कई दिग्गजों पार्षदों के सिंघासन को ना केवल हिलाकर रखा, बल्कि 31 में से 15 वार्ड में खुद दिग्गज ही हार गए। इनमें कोई 20 साल तो कोई 15 साल से पार्षद की कुर्सी पर जमा हुआ था।

खास बात यह है कि दिग्गजों को हराने में ऐसे प्रत्यार्शियों की संख्या ज्यादा रही जो पहली बार चुनाव लड़े। इनमें अधिकांश निर्दलीय ही शामिल है। हालांकि दो पार्षद इस आंधी में खुद को सेफ रख पाए। इनमें वार्ड नंबर-17 से सुचित्रा चांदना व वार्ड नंबर-20 से पूर्व चेयरमैन विजय राव शामिल है। इसके साथ ही पिछले चुनाव में हार का मुंह देखने वाले दो दिग्गज वार्ड नंबर-15 से गिरिश भारद्वाज व वार्ड नंबर-11 से दलीप माटा फिर से पार्षद बने है। जो दिग्गज अपनी सीट बचाने में कामयाब रहे उन्हें भी अपने वार्ड में कड़ी टक्कर का सामना करना पड़ा।

दरअसल, रेवाड़ी नगर परिषद में लंबे समय से बहुत से ऐसे चेहरे जीतकर आते रहे, जिन्हें वर्ष 2020 के निकाय चुनाव से पहले कभी कोई खास चुनौती का सामना नहीं करना पड़ा। इस बार कुछ दिग्गज तो ऐसे कांटे के मुकाबले में फंसे की उन्हें दूसरे नंबर पर भी जगह नहीं मिली। खासकर वो पार्षद को ज्यादा मासूस दिखे, जो चुनाव परिणाम आने से पहले ही खुद को जीता हुआ बता रहे थे।

चुनाव हारने वाले दिग्गज और उनके परिवार के सदस्यों की सूची

वार्ड नंबर-1 से शिल्पी शर्मा पार्षद का चुनाव हार चुकी है। उनके पति कमल शर्मा पिछले चुनाव में जीते थे, जबकि इससे पहले उनके ससुर परशुराम शर्मा काफी सालों तक यहीं से पार्षद रहे। वार्ड नंबर-2 से निर्वतमान पार्षद विनय यादव 15 सालों तक पार्षद रहने के बाद हार गए है। वार्ड नंबर-3 से पूर्व चेयरमैन विनिता पीपल की हार हुई। वार्ड नंबर-6 से धन्नीराम चुनाव हार गए है। धन्नीराम और उनके परिवार का इस वार्ड पर पिछले 20 साल से राज था। वार्ड नंबर-9 से मनीष चराया की पत्नी सीमा अपना पहली ही चुनाव हार गई है, मनीष चराया भी 15 सालों से पार्षद बनते आ रहे थे। वार्ड नंबर-10 से नप के पूर्व उपप्रधान पवन बठला को हार का सामना करना पड़ा। वार्ड नंबर-12 से मार्केट कमेटी के चेयरमैन रहे गुरदयाल नंबरदार की पुत्रवधु सुषमा चुनाव हार चुकी है। वार्ड नंबर-16 से पूर्व उपप्रधान संजय मलिक के भाई की पत्नी आशना मलिक चुनाव हार गई है। संजय मलिक भी काफी बार से पार्षद बनते आ रहे थे। वार्ड नंबर-18 में दो दिग्गज सैनी सभा के पूर्व प्रधान चेतराम सैनी व भारत भारद्वाज चुनाव हारे। वार्ड नंबर-19 से पूर्व चेयरमैन हरीश अरोड़ा चुनाव हार गए है। वार्ड नंबर-23 से रामौतार, 28 से गोपाल कर्दम, 30 से अमृतकला टिकानिया, 31 से पिंकी भार्गव ये भी पिछले 15 से भी ज्यादा सालों से पार्षद रहे है।

और पढ़ें
Next Story