Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

पर्वतारोही रोहताश खिलेरी 21 फरवरी को रचेंगे नया इतिहास

। अब की बार वे अफ्रीका महाद्वीप जहां माइनस 40 डिग्री तापमान रहता है, वहां पर 24 घंटे रह कर वर्ल्ड रिकार्ड बनाएंगे। अब से पहले यह रिकॉर्ड किसी के नाम नहीं है। इसके लिए उन्हें परमिशन भी मिल चुकी है।

पर्वतारोही रोहताश खिलेरी 21 फरवरी को रचेंगे नया इतिहास
X

 पर्वतारोही रोहताश खिलेरी।

हिसार : जिले के गांव मल्लापुर में रहने वाले एवरेस्ट विजेता रोहताश खिलेरी इस बार नया इतिहास रचने की तैयारी में जुटे हैं। खिलेरी 21 फरवरी को दिल्ली से अफ्रीका महाद्वीप की सबसे ऊंची चोटी के लिए रवाना होंगे। अब की बार वे अफ्रीका महाद्वीप जहां माइनस 40 डिग्री तापमान रहता है, वहां पर 24 घंटे रह कर वर्ल्ड रिकार्ड बनाएंगे। अब से पहले यह रिकॉर्ड किसी के नाम नहीं है। इसके लिए उन्हें परमिशन भी मिल चुकी है।

इससे पूर्व भी रोहताश खिलेरी ने दुनिया के सबसे ऊंचे पहाड़ पर चढ़ने का सपना देखा और माऊंट एवरेस्ट आखिरकार 2018 में जीत लिया। इतना नहीं पर्वतारोही ने माऊंट एवरेस्ट के विख्यात शिखर को जीतने के लिए यात्रा शुरू की। वर्ष 2014 में एक दिन मार्शल आर्ट्स चैंपियनशिप में भाग लेने के लिए काठमांडू जाते समय, युवा रोहताश ने अपने जीवन में पहली बार ऊंचे बफीर्ले पहाड़ों की एक झलक पाई। इसके बारे में पूछने पर बगल में बैठे नेपाली ने जानकारी दी कि नेपाल सागर एवरेस्ट के नाम से मशहूर सागरमाथा नामक सबसे ऊंचे पहाड़ों में से एक है। उसी क्षण रोहताश अपने भाग्य से मिले और उस पर चढ़ने का सपना देखा। हालांकि, इस लक्ष्य के लिए रास्ता बेहद चुनौतीपूर्ण था जो उन्होंने पूरा किया।

रोहताश की उपलब्धि में जोधपुर राजस्थान की पूजा बिश्नोई का सहयोग रहा। रोहताश खिलेरी 21 फरवरी को वर्ल्ड रिकार्ड बनाने अफ्रीका महाद्वीप पर जो 5895 मीटर है और तापमान माइनस 40 डिग्री है वहां पर 24 घंटे रहकर चोटी पर भारतीय राष्ट्रध्वज लहरा कर अपने माता-पिता अपने देश का नाम रोशन करेंगे।

Next Story