Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

पंचकूला के माता मनसा देवी गोधाम में 80 से ज्यादा गोवंश की मौत, जानें क्यों

मौके पर पहुंची पशु चिकित्सा टीम का मानना है कि फूड प्वाइजनिंग के कारण गोशाला की गाय, बछड़े और बैलों की मौत हुई है। वही गायों की मौत की जानकारी मिलते ही माता मनसा देवी गोधाम में घायल गायों को देखने विधानसभा अध्यक्ष ज्ञान चंद गुप्ता पहुंचे और इलाज के बारे में अधिकारियों से जानकारी ली ।

पंचकूला के माता मनसा देवी गोधाम में 80 से ज्यादा गोवंश की मौत, जानें क्यों
X

फाइल फोटो।

पंचकूला में माता मनसा देवी गोधाम में करीब 80 गायों की मौत (Death) हो गई और करीब 30 गाय बीमार और घायल हैं। घायल गायों (Injured cows) का उपचार किया जा रहा है। मौके पर पहुंची पशु चिकित्सा टीम का मानना है कि फूड प्वाइजनिंग (Food poisoning) के कारण गोशाला की गाय, बछड़े और बैलों की मौत हुई है। सभी गायों के मुंह, कान , आंखों और नाक से खून निकल रहा था। वही गायों की मौत की जानकारी मिलते ही माता मनसा देवी गोधाम में घायल गायों को देखने विधानसभा अध्यक्ष ज्ञान चंद गुप्ता पहुंचे और इलाज के बारे में अधिकारियों से जानकारी ली ।

पशु चिकित्सक टीम द्वारा मौके से गायों को दिए जाने वाले चारे के सैंपल व मृत गायों के सैंपल लिए हैं। साथ ही पशु चिकित्सक व प्रशासनिक अधिकारी सीसीटीवी फुटेज खंगालने में भी जुटे हैं ताकि यह पता लगाया जा सके कि कल शाम को इन्हें खाने में क्या दिया गया था और खाना किसने दिया था।

डिप्टी डायरेक्टर पशु चिकित्सा विभाग, डॉ अनिल कुमार का कहना है कि प्राथमिक जांच में फूड प्वाइजनिंग के कारण इनकी मौत होना लग रहा है। उन्होंने बताया कि फिलहाल उनकी टीम द्वारा गायों को दिए जाने वाले चारे और मृत गायों के सैंपल कलेक्ट किए हैं। फिलहाल राहत की बात यह है कि घायल गायों का इलाज चल रहा है और उनकी हालत में सुधार है। बता दें कि कि माता मनसा देवी गोधाम में कुल 7 शेड बने हुए हैं। जिनमें से दो शेड में गायों की मौत का मामला सामने आया है। अन्य 5 शेड की गाय सुरक्षित हैं।

हरियाणा विधानसभा अध्यक्ष ज्ञानचंद गुप्ता ने गोवंश की मौत मामले को बेहद दुखद हादसा बताते हुए जांच के आदेश दिए हैं। वहीं जिला मुकेश कुमार आहूजा ने पुष्टि करते हुए बताया कि जांच कमेटी का गठन कर दिया गया है। और जांच में जो भी दोषी पाया जाएगा उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। इसके साथ ही एक नई एडवाइजरी बनाकर सभी गोशालाओं को जारी की जाएगी ताकि भविष्य में इस तरह की कोई हादसा ना हो।


Next Story