Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

मोबाइल ने खोला मौत का राज, हत्या में बदला आत्महत्या का केस, भाई-बहन के खिलाफ केस दर्ज

सिरसा मेें 29 मार्च को धीरज की मौत हो गई थी, उसका शव फंदे पर लटका मिला था। बाद में मृतक के पिता ने उसका मोबाइल खंगाला तो कॉल रिकोर्डिंग से कई राज निकलकर सामने आए।

मोबाइल ने खोला मौत का राज, हत्या में बदला आत्महत्या का केस, भाई-बहन के खिलाफ केस दर्ज
X

हरिभूमि न्यूज : सिरसा

थाना शहर सिरसा पुलिस ने सरस्वती कालोनी निवासी कृष्ण पुत्र जोगेंद्र सिंह के पुत्र धीरज की मौत के मामले में डीसी कालोनी निवासी जतिन सोढ़ी पुत्र प्रीतम सिंह व उसकी बहन रीतु सोढ़ी के खिलाफ मामला दर्ज किया है। लगभग दो माह पूर्व धीरज की मौत हो गई थी। तब पुलिस ने आत्महत्या का मामला दर्ज किया था।

मृतक के पिता कृष्ण कुमार ने पुलिस में दी शिकायत में बताया कि वह गांधी कालोनी में दर्जी का कार्य करता है। बीती 29 मार्च को वह बाहर गया हुआ था। रात 8 बजे वह घर लौटा तो उसका छोटा बेटा धीरज छत पर था। परिवार के सदस्यों ने उसे खाना खाने के लिए बुलाया तो वह नीचे नहीं आया। घर वाले उसे देखने छत पर गए तो वहां धीरज कपड़े सुखाने वाली तार से निवार के साथ गले से बंधा हुआ था। परिजनों ने धीरज को उपचार के लिए अस्पताल पहुंचाया जहां उसे मृत घोषित कर दिया। मौका देखकर पुलिस ने इसे सुसाइड केस माना और केस बंद कर दिया।

कृष्ण कुमार ने बताया कि बेटे की रस्में आदि पूरी करने के बाद उसने बेटे धीरज का मोबाइल खंगाला। जिसमें रिकोर्डिंग मिलीं, जबकि आरोपियों द्वारा उसके बेटे के मोबाइल का डाटा डिलीट भी किया गया। शिकायत में बताया कि धीरज जतिन सोढ़ी के साथ ठेकों पर काम करता था। हादसे वाले दिन रीतु सोढ़ी ने धीरज को घर बुलाया और जतिन ने उसे मारा-पीटा। शिकायत में यह भी आरोप लगाया कि 29 मार्च को घटना वाले दिन जब वे धीरज को उपचार के लिए अस्पताल लेकर गए थे, तब आरोपी उसके घर आए और धीरज का मोबाइल जबरन छीनकर ले गए। इसके बाद दोनों अस्पताल भी पहुंचे और धीरज की जेब चैक की और उसका पर्स भी ले गए।

बाद में मोबाइल व पर्स घर पर देकर गए थे। मृतक के पिता ने मोबाइल रिकार्डिंग के आधार पर इसे आत्महत्या नहीं बल्कि हत्या करार देते हुए जांच की मांग की। शुरूआती दौर में पुलिस ने कार्रवाई करने से इंकार कर दिया, चूंकि परिजनों के बयान पर ही मामला बंद किया गया था। लेकिन कृष्ण ने पुलिस अधीक्षक से न्याय की गुहार लगाई। पुलिस अधीक्षक ने इस पर संज्ञान लिया और इस बारे में एडीए की राय मांगी। एडीए द्वारा मामले में भादंसं की धारा 306 के तहत मामला दर्ज करने की अनुशंसा की गई। जिस पर शहर थाना पुलिस ने जतिन सोढ़ी व रीतु सोढ़ी के खिलाफ मामला दर्ज करके पुन: जांच शुरू कर दी है।

और पढ़ें
Next Story