Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

हरियाणा में अब तक 90 लाख पौधारोपण करने का मंत्री कंवर पाल ने जताया दावा

वर्ष 2020-21 में प्रदेश में एक करोड़ 27 लाख पौधे लगाए जाने का लक्ष्य रखा गया है। जिसमें अब तक करीब 90 लाख से अधिक पौधे लगाए जा चुके हैं। वन एवं पर्यटन मंत्री कंवरपाल ने कहा कि फरवरी और मार्च के दौरान भी पौधारोपण किया जा रहा है और निर्धारित लक्ष्य से अधिक पौधे लगाए जाने की उम्मीद है।

हरियाणा में अब तक 90 लाख पौधारोपण करने का मंत्री कंवर पाल ने जताया दावा
X

यमुनानगर के जगाधरी में अपने निवास स्थान पर पत्रकारों से बातचीत करते हुए हरियाणा के वन एवं पर्यटन मंत्री कंवरपाल।

हरिभूमि न्यूज : यमुनानगर

हरियाणा के वन एवं शिक्षा मंत्री कंवर पाल ने कहा कि प्रदेश को हरा-भरा बनाने के लिए जहां वन विभाग द्वारा अपने स्तर पर पौधारोपण के प्रयास किए जा रहे हैं, वहीं विभिन्न योजनाओं के तहत कृषि वानिकी और शहरी वानिकी को भी प्रोत्साहित किया जा रहा है।

उन्होंने बताया कि वर्ष 2020-21 में प्रदेश में एक करोड़ 27 लाख पौधे लगाए जाने का लक्ष्य रखा गया है। जिसमें अब तक करीब 90 लाख से अधिक पौधे लगाए जा चुके हैं। वन एवं पर्यटन मंत्री कंवरपाल ने कहा कि फरवरी और मार्च के दौरान भी पौधारोपण किया जा रहा है और निर्धारित लक्ष्य से अधिक पौधे लगाए जाने की उम्मीद है। प्रदेश के 1126 गांवों को हरा-भरा बनाने के लिए चुना गया है। इस कार्य के लिए चुने गए प्रत्येक गांव में एक युवा को वृक्ष मित्र लगाया गया है। इसके अलावा पौधा गिरी योजना के तहत स्कूल के बच्चों द्वारा लगभग 9 लाख पौधे लगाए गए हैं। इसी प्रकार जल शक्ति अभियान के तहत इस वर्ष अब तक लगभग 70 लाख क्लोनल सफेदा के पौधे लगाए गए हैं। शहरी वानिकी के तहत भी शहरों में बड़े आकार के 60 हजार से अधिक पौधे लगाए गए हैं।

वन मंत्री ने बताया कि यमुनानगर जिला के साढ़ौरा में 7 एकड़ भूमि पर नगर वन विकसित किया गया है। इसके अलावा ताजिकपुर व मुकारमपुर में 12 एकड़ भूमि पर नगरीय वन विकसित करने की योजना है। उन्होंने कहा कि पौधे न केवल पर्यावरण को हरा-भरा बनाते है बल्कि विभिन्न कारणों से उत्पन्न होने वाले पर्यावरण प्रदूृषण को नियंत्रित करने में भी कारगर सिद्घ होते है।

उन्होंने कहा कि वन विभाग द्वारा मोरनी हिल क्षेत्र में तथा शिवालिक क्षेत्रों में स्थित पहाडिय़ों पर हरियाली को बढ़ाने के लिए ड्रोन के माध्यम से भी विभिन्न प्रजातियों के पौधों के बीज बोए जा रहे हैं। इससे जहां पहाड़ों की हरियाली बढेंगी वहीं भू.सल्खन को रोकने में भी सहयोग मिलेगा। उन्होंने प्रदेश के लोगों से भी अनुरोध किया कि वे वन विभाग की विभिन्न योजनाओं की जानकारी हासिल करके पौधारोपण में सहयोग करें।

Next Story