Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Weather Update : पंजाब-हरियाणा में न्यूनतम तापमान सामान्य से अधिक, बरसात की तरह बरसा कोहरा

घने कोहरे के कारण विजिबिलिटी भी घटकर 10 मीटर रह गई थी। जिससे हाईवे पर वाहन दिन में लाइटें जलाकर रेंगते हुए नजर आए।

Weather Update : पंजाब-हरियाणा में न्यूनतम तापमान सामान्य से अधिक, बरसात की तरह बरसा कोहरा
X

घने कोहरे के बीच दिन में लाइटें जलाकर चलते वाहन।

पंजाब और हरियाणा के कई हिस्सों में शनिवार को न्यूनतम तापमान सामान्य से अधिक रहा। मौसम विभाग ने शनिवार को यह जानकारी दी। पंजाब के अमृतसर, लुधियाना और पटियाला में न्यूनतम तापमान क्रमश: 10.8, 9.8 और 10 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। वहीं पठानकोट, आदमपुर, हलवाड़ा, बठिंडा, फरीदकोट और गुरदासपुर में न्यूनतम तापमान क्रमश: 13.4, 12, 8.6, 9, 10 और 8.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। दोनों राज्यों की संयुक्त राजधानी चंडीगढ़ में न्यूनतम तापमान 11.1 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

हरियाणा में अंबाला, हिसार और करनाल का न्यूनतम तापमान क्रमश: 10.5, 10.4 और 10.8 डिग्री सेल्सियस रहा। वहीं नारनौल, रोहतक, भिवानी और सिरसा में तापमान क्रमश: 6.4, 12.6, 11.5 और 10.3 डिग्री दर्ज किया गया। चंडीगढ़, अमृतसर, लुधियाना, पटियाला, अंबाला, हिसार, करनाल, रोहतक और भिवानी समेत कई जगहों पर शनिवार सुबह कोहरा छाया रहा।

हाईवे पर रेंगते नजर आए वाहन

मौसम के परिवर्तन के चलते शनिवार को लगातार दूसरे दिन भी कोहरा छाया रहा। जिससे एक बार फिर ठंड लौट आई है। घने कोहरे के कारण विजिबिलिटी भी घटकर 10 मीटर रह गई थी। जिससे हाइवे पर वाहन दिन में लाइटें जलाकर रेंगते हुए नजर आ रहे थे। शुक्रवार देर सायं से ही कोहरा छाना शुरू हो गया था। शनिवार सुबह चारों तरफ छाया कोहरा बारिश की बूंदों की तरह बरस रहा था। तापमान में भी गिरावट दर्ज की गई। हालांकि दोपहर पूर्व तक मौसम साफ हो गया और सूर्यदेव ने बादलों के बीच से दर्शन दे दिए। धूप खिलने और कोहरा छंटने के बाद ही लोगों ने राहत की सांस ली। मौसम विशेषज्ञों ने आगामी चार दिनों में मौसम का मिजाज बदलने की संभावना जताई है।

17 तक राहत के आसार नहीं

मौसम विज्ञानियों की मानें तो इस समय कोहरा आने का बड़ा कारण पश्चिमी विक्षोभ का आंशिक प्रभाव बना हुआ है। आने वाले कुछ दिनों में इसी प्रकार की कोहरे का असर बरकरार रह सकता है। पर्वतीय क्षेत्रों की तरफ पश्चिमी विक्षोभ के चले जाने के कारण मैदानी क्षेत्रों में धुंध की संभावना अकसर बढ़ जाती है। मौसम विशेषज्ञों ने कहा कि 17 फरवरी तक राहत के कोई आसार नहीं है। हालांकि दिन में निकलने वाली धूप से कुछ राहत जरूर मिल सकती है।

Next Story