Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

मेरी फसल-मेरा ब्यौरा : अब बासमती धान के पंजीकरण पर होगा फोकस

सोनीपत में बड़ी संख्या में किसान बासमती धान उगाते हैं। बासमती धान को सरकार नही खरीदती, ऐसे में अधिकतर किसान पोर्टल पर अपनी फसल का पंजीकरण नहीं करवाते हैं। मेरी फसल-मेरा ब्यौरा पोर्टल पर बासमती की फसल का पंजीकरण करवाने के लिए जिले के किसानों को जागरूक किया जाएगा।

मैदानी क्षेत्रों में किसानों को अब भी बारिश का इंतजार, रोपाई करने खेतों में पर्याप्त पानी नहीं
X

फसल (प्रतीकात्मक फोटो)

हरिभूमि न्यूज:सोनीपत

मेरी फसल-मेरा ब्यौरा पोर्टल पर 100 प्रतिशत फसलों का पंजीकरण करवाने की मुहिम में जुटी सरकार ने कृषि विभाग को निर्देश दिए है कि वे बासमती धान के पंजीकरण पर फोकस करे, ताकि खरीफ सीजन में लक्ष्य को प्राप्त किया जा सके। लेकिन खरीफ सीजन में सोनीपत में बड़ी संख्या में किसान बासमती धान उगाते हैं। इस संबंध में कृषि विभाग के अधिकारियों की ऑनलाइन बैठक भीआयोजित हुई। जिसके अंतर्गत आला अधिकारियों ने निर्देश दिए कि जल्द से जल्द किसानों को जागरूक करके बासमती धान का पंजीकरण करवाने के लिए भी उन्हें प्रेरित किया जाए।

सरकार उसी फसल को न्यूनतम समर्थन मूल्य में खरीदती है, जिस फसल का पंजीकरण किसान द्वारा मेरी फसल-मेरा ब्यौरा पोर्टल पर करवाया होता है। खरीफ सीजन के अंतर्गत सरकार ने 100 प्रतिशत फसल पंजीकरण का लक्ष्य रखा है। लेकिन खरीफ सीजन में सोनीपत में बड़ी संख्या में किसान बासमती धान उगाते हैं। बासमती धान को सरकार नही खरीदती, ऐसे में अधिकतर किसान पोर्टल पर अपनी फसल का पंजीकरण नहीं करवाते हैं। इस बार भी अब तक काफी संख्या में खरीफ सीजन के अंतर्गत किसानों ने मेरी फसल-मेरा ब्यौरा पोर्टल पर अपनी फसलों का पंजीकरण करवाया है। ऐसे में कृषि विभाग को निर्देश जारी किए गए है कि विशेष जागरूकता अभियान चलाकर पंजीकरण के लिए जागरूक किया जाए।

करीब 85 हजार हेक्टेयर भूमि में उगाई है बासमती की फसल

सोनीपत जिले के अधिकतर किसान बासमती धान ही उगाते हैं। इस बार भी करीब 85 हजार हैक्टेयर भूमि में बासमती धान उगाया गया है। जबकि नाममात्र के किसानो ने ही अपनी फसल का पंजीकरण करवाया है। परिणामस्वरूप कृषि विभाग जागरूकता अभियान चलाएगा, जिसके अंतर्गत किसानों को समझाया जाएगा कि सरकार की कृषि संबंधित सभी प्रकार की योजनाओं का लाभ लेने के लिए मेरी फसल-मेरा ब्यौरा पोर्टल पर फसल पंजीकरण करवाना अनिवार्य है। मेरा पानी-मेरी विरासत योजना के तहत भी इस बार काफी किसान पंजीकरण करवाने से वंचित रह गए, क्योंकि बहुत से किसानों ने पिछले साल खरीफ सीजन में बासमती धान का पंजीकरण नहीं करवाया था।

बासमती के पंजीकरण के लिए किसानों को करेंगे जागरूक

मेरी फसल-मेरा ब्यौरा पोर्टल पर बासमती की फसल का पंजीकरण करवाने के लिए जिले के किसानों को जागरूक किया जाएगा। इसके लिए टीमें गठित करके शिविर भी आयोजित किए जाएंगे, ताकि अधिक से अधिक संख्या में किसान बासमती फसलों का पंजीकरण करवा सके। विभाग द्वारा मौजूदा समय में फसल मैपिंग का काम किया जा रहा है। -अनिल सहरावत, कृषि उपनिदेशक सोनीपत।

Next Story