Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

मेघालय के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने विधायक सोमबीर सांगवान को लिखा पत्र, कहा, मैं किसानों के साथ हूं

मलिक ने सोमवीर सांगवान को लिखे पत्र में एक बार फिर सरकार पर किसान आंदोलन को लेकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि बड़े दुख की बात है कि आंदोलन में 300 किसानों के खोने के बाद भी सरकार ने अफसोस नहीं जताया।

सत्यपाल मलिक का दावा- घाटी के लिए सबसे बड़ा खतरा
X
सत्यपाल मलिक 

मेघालय के राजपाल सत्यपाल मलिक ने दादरी से निर्दलीय विधायक एवं सांगवान खाप प्रधान सोमबीर को एक पत्र लिखा है। पत्र में किसान आंदोलन का जिक्र किया तथा लंबे व शांतिपूर्ण आंदोलन के लिए बधाई दी।

मलिक ने सोमवीर सांगवान को लिखे पत्र में एक बार फिर सरकार पर किसान आंदोलन को लेकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि बड़े दुख की बात है कि आंदोलन में 300 किसानों के खोने के बाद भी सरकार ने अफसोस नहीं जताया। सरकार का यह रवैया बहुत ही निंदनीय है। मलिक ने लिखा कि सरकार किसान आंदोलन को तोड़ने वह बदनाम करने का प्रयास कर रही है। मैं किसानों को शाबाशी देना चाहता हूं कि वह सरकार के छलावे में फसने का प्रयास नहीं करें व अपनी एकता बनाए रखें। सत्यपाल मलिक ने कहा कि वे आंदोलन को लेकर अपने लेवल काफी प्रयास कर चुके हैं। उन्होंने किसानों की मांगों को लेकर प्रधानमंत्री वह गृहमंत्री से मुलाकात कर सुझाव दिया था की किसानों के साथ न्याय करें और उनकी जायज मांगों को मान लिया जाए।

अपने दूसरे पत्र में राज्यपाल सत्यदेव मलिक ने कहा कि प्रधानमंत्री और गृहमंत्री कोई यह बताने का प्रयास किया है कि वे गलत रास्ते पर हैं और किसानों को दबाने डराने और धमकाने का प्रयास ना करें। मैंने यह भी कहा है कि किसानों को दिल्ली से खाली हाथ न लौटाएं। मलिक ने लिखा कि मई महीने के प्रथम सप्ताह में वे दिल्ली आ रहे हैं और अन्य नेताओं से संपर्क कर किसानों के पक्ष में सहमति बनाने का प्रयास करेंगे। उन्होंने किसानों व खाप पंचायतों को भरोसा दिलाते हुए कहा कि वह हमेशा साथ खड़े रहेंगे।

दादरी से निर्दलीय विधायक एवं सांगवान खाप 40 के प्रधान सोमबीर ने कहा कि उन्होंने राज्यपाल सत्यदेव मलिक को ज्ञापन भेजकर किसान आंदोलन में सहयोग मांगा था। राज्यपाल की तरफ से ज्ञापन का जवाब सकारात्मक मिला है। उम्मीद है कि सत्यपाल मलिक के हस्तक्षेप से जल्द ही आंदोलन किसी अंजाम तक पहुंच जाएगा।

Next Story