Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

अग्रोहा मेडिकल कॉलेज में एमबीबीएस छात्र ने लगाई फांसी, सुसाइड नोट में लिखी यह बात

मृतक आशीष जगाधरी का रहने वाला था। आशीष ने अपने रूम मेट को प्रैक्टिकल के लिए यह कहकर पहले भेज दिया था कि तू चल, मैं आ रहा हूं। उसके जाने के बाद आशीष ने रूम अंदर से बंद करके पंख के हुक से फंदा बनाकर जान दे दी।

अग्रोहा मेडिकल कॉलेज में एमबीबीएस छात्र ने लगाई फांसी, सुसाइड नोट में लिखी यह बात
X

फांसी लगाकर की आत्महत्या

हिसार। महाराजा अग्रसेन मेडिकल कॉलेज अग्रोहा में एमबीबीएस की पढ़ाई कर रहे फर्स्ट ईयर के छात्र ने सोमवार की दोपहर बाद हॉस्टल के कमरे में फांसी लगाकर जान दे दी। सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची और शव को कब्जे में लिया। मृतक आशीष जगाधरी का रहने वाला था। आशीष के कमरे से सुसाइड नोट बरामद हुआ है, जिसमें उसने मानसिक परेशानी के चलते यह कदम उठाए जाने की जिक्र किया है। पुलिस ने सुसाइड नोट भी कब्जे में ले लिया है।

जानकारी के अनुसार महाराजा अग्रसेन मेडिकल कॉलेज में एमबीबीएस की 100 सीटें हैं। आशीष अपने बैच का टॉपर था। एक रूम में दो स्टूडेंट्स रहते हैं। आशीष का रूम मेट भी एमबीबीएस फर्स्ट ईयर का स्टूडेंट है। सोमवार को दोनों का प्रैक्टिकल एग्जाम था। आशीष ने अपने रूम मेट को प्रैक्टिकल के लिए यह कहकर पहले भेज दिया था कि तू चल, मैं आ रहा हूं। उसके जाने के बाद आशीष ने रूम अंदर से बंद करके पंख के हुक से फंदा बनाकर जान दे दी। एग्जाम देकर स्टूडेंट्स वापस लौटे। बहुत देर तक दरवाजा नहीं खुला तो किसी ने रोशनदान से झांककर देखा कि आशीष फंदे से लटक रहा था। मामले की सूचना तुरंत मेडिकल कॉलेज प्रशासन तथा पुलिस को दी गई। उसे तुरंत एमरजेंसी कक्ष में ले जाया गया, जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

सुसाइड नोट की चल रही जांच

बताया जाता है कि आशीष के कमरे से डेढ़ पेज का सुसाइड नोट बरामद हुआ है। सुसाइड नोट में लिखा है कि वह पिछले दो साल से मानसिक रूप से परेशान था। उसमें लिखा है कि वह जीवन से निराश है। बस जिये जा रहा है। पूरा नोट अभी सामने नहीं आया है। पुलिस सुसाइड नोट की जांच कर रही है। हैंडराइटिंग का मिलान किया जाएगा।

पेंटिंग्स बनाने तथा कविता लिखने का शौक था

आशीष के सहयोगी छात्रों ने बताया कि उसे पेंटिंग्स बनाने तथा कविता लिखने का शौक था। वह ज्यादातर हॉरर पेंटिंग बनाता था। वह अक्सर अपनी लिखी हुई कविताएं अपने सहयोगी छात्रों को सुनाता था। उसकी कविताओं में दर्द झलकता था। जिसे वह सोशल मीडिया में भी पोस्ट करता था।

Next Story