Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Mausam Ki Jankari : गुलाब चक्रवात का उत्तर भारत के इन राज्यों पर भी होगा आंशिक प्रभाव, बरसात के आसार

बंगाल की खाड़ी के पूर्व-मध्य से गुल-आब तूफान उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ रहा है, जो फिलहाल डिप्रेशन के रूप में है, आगे इसके चक्रवात का रूप लेने का अनुमान है।

गुल-आब तूफान का उत्तर भारत के इन राज्यों पर भी होगा आंशिक प्रभाव
X

मौसम की जानकारी

हरिभूमि न्यूज : नारनौल

इस साल मानसून की बरसात ( Mansoon Rain ) अभी खत्म होने का नाम ही नहीं ले रही। सीजन में बरसात दिन-प्रतिदिन नए रिकॉर्ड कायम कर रही है। इस बार मानसून की वर्षा को सक्रिय करने के लिए अलग-अलग प्रकार के मौसमी सिस्टम बन रहे हैं। इसी सिस्टम की श्रृंखला में एक नया चक्रवातीय सिस्टम गुल-आब बना है। इस बारे में नारनौल के राजकीय महाविद्यालय के पर्यावरण क्लब के नोडल अधिकारी डा. चंद्रमोहन ने बताया कि कुछ महीने पहले ताऊ-ते चक्रवात ने अरब सागर, तटीय इलाकों पर भारी तबाही मचाई थी। वहीं यास ने बंगाल की खाड़ी के तटीय इलाकों पर भारी तबाही मचाई थी और अब बंगाल की खाड़ी से एक और तूफान गुल-आब उठ रहा है। इस चक्रवाती तूफान का नाम पाकिस्तान ने रखा है। उन्होंने बताया कि विश्व मौसम विज्ञान संगठन प्रत्येक उष्णकटिबंधीय चक्रवात बेसिन के नामों की एक लिस्ट रखता है जो नियमित आधार पर बदलता है।

डा. चंद्रमोहन ने बताया कि ने बताया कि बंगाल की खाड़ी के पूर्व-मध्य से गुल-आब तूफान उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ रहा है, जो फिलहाल डिप्रेशन के रूप में है, आगे यह चक्रवात का रूप लेने का अनुमान है। चक्रवात बनने के बाद 70 से 90 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से ओडिशा व आंध्र प्रदेश के गोपालपुर के पास तटीय क्षेत्र से टकराने की संभावना है। जिसका उत्तर प्रदेश, राजस्थान, एनसीआर-दिल्ली और दक्षिणी हरियाणा पर भी आंशिक प्रभाव देखने को मिलेगा। जिसकी वजह इन इलाकों में बादलबाही बनी रहेगी, मौसम सुहावना रहेगा तथा तेज हवाएं चल सकती हैं। कुछेक स्थानों पर हल्की से मध्यम या तेज बारिश हो सकती है। जिससे सितंबर के अंत तक इसी प्रकार मौसम गतिशील एवं परिवर्तनशील रहने की पूरी संभावना है।

Next Story