Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

ममता शर्मसार : जन्म के एक दिन बाद ही नवजात को गन्ने के खेत में फेंका

पुलिस ने बच्चे को बीपीएस राजकीय महिला मेडिकल कालेज के अस्पताल भिजवाया। शिशु को चाइल्ड वैल्फेयर कमेटी (सीडब्ल्यूसी) ने औपचारिकताएं पूरी कर तुरंत अपने संरक्षण में लिया है।

ममता शर्मसार : जन्म के एक दिन बाद ही नवजात को गन्ने के खेत में फेंका
X

हरिभूमि न्यूज . गोहाना

गोहाना में इंसानियत को शर्मसार करने वाली घटना सामने आई है। जन्म के बाद एक दिन के नवजात शिशु को गांव कथूरा में गन्ने के खेत में फेंक दिया गया। किसान खेतों की तरफ घूमने गए तो उन्होंने बच्चे के रोने की आवाज सुनाई दी। खेत के अंदर जाकर देखा तो शिशु मिला। पुलिस ने बच्चे को बीपीएस राजकीय महिला मेडिकल कालेज के अस्पताल भिजवाया। शिशु को चाइल्ड वैल्फेयर कमेटी (सीडब्ल्यूसी) ने औपचारिकताएं पूरी कर तुरंत अपने संरक्षण में लिया है।

गांव कथूरा के सत्यपाल व रामकुमार छिछड़ाना गांव की तरफ अपने खेत में गए थे। जब वे वीरेंद्र के खेत के पास पहुंचे तो गन्ने की फसल के अंदर से बच्चे के रोने की आवाज सुनाई दी। अंदर जाकर देखा तो कपड़े में नवजात शिशु मिला। शिशु की नाभि पर नीले रंग की क्लिप लगी हुई थी। सत्यपाल ने बरोदा थाना में सूचना दी। पुलिस मौके पर पहुंची और बच्चे को बीपीएस राजकीय महिला मेडिकल कालेज के अस्पताल भिजवाया। वहां चिकित्सकों ने बच्चे का उपचार शुरू कर दिया है।

नवजात शिशु एक दिन का बताया जा रहा है। बरोदा थाना पुलिस घटना की जांच कर रही है। पुलिस ने शिशु को चाइल्ड वैल्फेयर कमेटी के सुपुर्द किया। सीडब्ल्यूसी ने जरूरी औपचारिकताओं को पूरा करके शिशु को अपने संरक्षण में ले लिया है। सीडब्ल्यूसी सदस्य सुनीता देवी ने बताया कि शिशु को स्पेशल अडॉप्शन एजेंसी (काडा) भेजने की प्रक्रिया तुरंत शुरू कर दी गई हैं, ताकि उसका बेहतरीन पालन-पोषण हो सके।

Next Story